Breaking :
||बंद औद्योगिक इकाइयों को पुनर्जीवित करेगी राज्य सरकार : मुख्यमंत्री||आर्थिक तंगी के कारण कोई भी छात्र उच्च एवं तकनीकी शिक्षा से न रहे वंचित: मुख्यमंत्री||झारखंड में मानसून की आहट, भारी बारिश का अलर्ट जारी||बड़गाईं जमीन घोटाले में ED की बड़ी कार्रवाई, जमीन कारोबारी के ठिकाने से एक करोड़ कैश और गोलियां बरामद||पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सेक्शन अधिकारी समेत दो रिश्वत लेते गिरफ्तार||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री
Saturday, June 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडलबालूमाथलातेहार

लातेहार की रानी राज को मिला मिथिला ग्लोबल अवार्ड धुमकुड़िया-“द ट्रेजर ट्रोव ऑफ़ नॉलेज”

Mithila Global Award 2023

लातेहार : झारखंड की संस्था “धुमकुड़िया-द ट्रेजर ट्रोव ऑफ नॉलेज” मिथिला ग्लोबल अवार्ड रानी राज (झाबर, लातेहार) को मिला। इसका आयोजन “अयाची नगर युवा संगठन”,मधुबनी, सरिसब-पाही एवं अन्य प्रायोजकों द्वारा शांति कुंज ऑडिटोरियम हॉल, भट्टपुरा में किया गया। यह संस्था शिक्षा, रक्तदान, पर्यावरण संरक्षण आदि सामाजिक मुद्दों पर काम करती है।

कार्यक्रम में मिथिला ग्लोबल अवार्ड 2023 मिथिला क्षेत्र के 10 अलग-अलग राज्यों के सामाजिक कार्यकर्ताओं के साथ मैथिली फिल्मों के साथ-साथ शिक्षा, स्वास्थ्य, उद्यमियों, कृषि में सुधार करने वाले 20 लोगों को दिया गया। इनमें झारखंड राज्य के लातेहार जिला अंतर्गत बालूमाथ प्रखंड के झाबर गांव की रानी राज को भी इस सम्मान से सम्मानित किया गया। रानी राज धुमकुड़िया ग्रुप की निदेशक हैं। धुमकुड़िया ग्रुप युवाओं को सामाजिक कार्यों के लिए प्रेरित करता है। धुमकुड़िया ग्रुप का संचालन रानी राज और राजेश कुमार करते हैं। यह समूह भाषा, संस्कृति को संरक्षित करने और युवाओं को सशक्त बनाने का प्रयास करता है। हर साल कुछ जरूरतमंद बच्चों को स्कूल और कॉलेजों में दाखिला दिलाया जाता है और जरूरतमंद बच्चों के बीच शैक्षणिक सामग्री वितरित की जाती है। धुमकुड़िया ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से भाषा-बोली संरक्षण पर जागरूकता कार्यक्रम भी आयोजित करता है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

कोरोना काल के दौरान इस समूह ने ऑनलाइन प्लेटफॉर्म धुमकुड़िया द ट्रेजर ट्रोव ऑफ नॉलेज के माध्यम से मुंडारी, कुडुख, गोंडी, डोगरी आदि 15 से अधिक क्षेत्रीय और आदिवासी भाषाओं में कहानी कहने का सफल आयोजन किया था, जिसमें उषा किरण अत्राम, संजय मिश्रा, बाबा राव मडावी जैसे प्रसिद्ध साहित्यकारों ने भाग लिया था। कोरोना काल में धुमकुड़िया ग्रुप ने कोरोना पीड़ितों और प्रवासी लोगों की भी मदद की थी। वर्तमान में धुमकुड़िया समूह का मुख्य ध्यान जरूरतमंद बच्चों के बीच शिक्षा के बारे में जागरूकता पैदा करना और क्षेत्रीय और आदिवासी कलाओं और भाषाओं के संरक्षण पर है।

यह सम्मान कार्यक्रम संस्था के संस्थापक विक्की मंडल नेतृत्व में सम्पन्न हुआ। वहीं अध्य्क्षता डॉ कर्नल एस के झा ने की। बतौर अतिथि के रूप में मदन झा, उदय कुमार झा, राजदेव रमन, एम बी जमन, राजेश मिश्रा, राज झा उपस्थित थे। आगत सभी अतिथियों को संस्था द्वारा मिथिला परम्परा के अनुसार सम्मानित किया गया।

दबेरा मनोज खन्ना, एम चंद्रशेखर (तेलंगाना), आफरीन बरकत (जम्मू कश्मीर), बिट्टू लाहा,अनूप विश्वास (वेस्ट बंगाल), रानी कुमारी, जतीन कुमार (झारखण्ड), परमेश विजयवर (छत्तीसगढ़), चेतन कुमार चंदन, डॉ विजय रंजन, ललित नारायण, सतीश मंडल, डॉ फैज़ुल हसन, राजेश मिश्रा, गिरीन्द्र कुमार, रौशन झा, एन मंडल, डॉ मृदुल कुमार शुक्ला, राज झा शामिल हैं।

Mithila Global Award 2023