Breaking :
||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी||गढ़वा: पड़ोसी युवक के साथ भागी दो बच्चों की मां, बंधक बनाकर पीटा||भूख हड़ताल पर बैठे पारा मेडिकल कर्मियों की तबीयत बिगड़ी, भेजा अस्पताल||Good News: झारखंड में मरीजों के लिए जल्द शुरू होगी एयर एंबुलेंस की सुविधा, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान||लातेहार: मनिका बालक मध्य विद्यालय में हुई चोरी मामले का खुलासा, तीन गिरफ्तार, चोरी का सामान बरामद||चतरा में सुरक्षाबलों से नक्सलियों की मुठभेड़, एक नक्सली ढेर, देखें तस्वीर||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत

बेटियों के लिए मिशाल बनी लालू की बेटी रोहिणी, किडनी दान कर बचायेगी पिता की जान

पटना: पिछले कई सालों से किडनी की बीमारी से जूझ रहे लालू प्रसाद की जान बचाने के लिए उनकी सिंगापुर की बेटी रोहिणी आचार्य ने एक बड़ा फैसला लिया है, जो देश की सभी बेटियों के लिए एक मिसाल है।

दरअसल, रोहिणी आचार्य ने अपने पिता को एक किडनी डोनेट करने का फैसला किया है ताकि वह जल्द ही इस बीमारी से उबर सकें। आपको बता दें कि लालू 56 से ज्यादा तरह की बीमारियों से पीड़ित हैं, जिसके इलाज के लिए वह कुछ दिन पहले सिंगापुर गये थे।

रोहिणी के प्रस्ताव को पहले ठुकरा दिया था लालू ने

रिपोर्ट्स के मुताबिक, सिंगापुर में डॉक्टरों द्वारा राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव को किडनी ट्रांसप्लांट कराने की सलाह देने के बाद रोहिणी ने अपने पिता को अपनी एक किडनी दान करने की पेशकश की थी। लेकिन लालू प्रसाद ने शुरू में रोहिणी के प्रस्ताव को ठुकरा दिया। लेकिन रोहिणी की विनती के बाद पिता लालू मान गये और किडनी लेने को राजी हो गये।

सिंगापुर जा सकते हैं लालू

रिपोर्ट के मुताबिक 20-24 नवंबर के बीच लालू फिर से सिंगापुर जा सकते हैं। इस बीच, उनके किडनी प्रत्यारोपण के लिए एक ऑपरेशन होने की संभावना है। लालू की दूसरी बेटी, रोहिणी, जो सिंगापुर में रहती है, अपने पिता के गुर्दे की बीमारियों के बारे में बहुत चिंतित थी और यह वह थी जिसने लालू को डॉक्टरों की एक टीम से परामर्श करने के लिए सिंगापुर जाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, जिन्होंने गुर्दा प्रत्यारोपण की सलाह दी थी।