Breaking :
||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर||युवक ने थाने की हाजत में लगायी फां*सी, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप
Sunday, February 25, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरबिहार

बेटियों के लिए मिशाल बनी लालू की बेटी रोहिणी, किडनी दान कर बचायेगी पिता की जान

पटना: पिछले कई सालों से किडनी की बीमारी से जूझ रहे लालू प्रसाद की जान बचाने के लिए उनकी सिंगापुर की बेटी रोहिणी आचार्य ने एक बड़ा फैसला लिया है, जो देश की सभी बेटियों के लिए एक मिसाल है।

दरअसल, रोहिणी आचार्य ने अपने पिता को एक किडनी डोनेट करने का फैसला किया है ताकि वह जल्द ही इस बीमारी से उबर सकें। आपको बता दें कि लालू 56 से ज्यादा तरह की बीमारियों से पीड़ित हैं, जिसके इलाज के लिए वह कुछ दिन पहले सिंगापुर गये थे।

रोहिणी के प्रस्ताव को पहले ठुकरा दिया था लालू ने

रिपोर्ट्स के मुताबिक, सिंगापुर में डॉक्टरों द्वारा राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव को किडनी ट्रांसप्लांट कराने की सलाह देने के बाद रोहिणी ने अपने पिता को अपनी एक किडनी दान करने की पेशकश की थी। लेकिन लालू प्रसाद ने शुरू में रोहिणी के प्रस्ताव को ठुकरा दिया। लेकिन रोहिणी की विनती के बाद पिता लालू मान गये और किडनी लेने को राजी हो गये।

सिंगापुर जा सकते हैं लालू

रिपोर्ट के मुताबिक 20-24 नवंबर के बीच लालू फिर से सिंगापुर जा सकते हैं। इस बीच, उनके किडनी प्रत्यारोपण के लिए एक ऑपरेशन होने की संभावना है। लालू की दूसरी बेटी, रोहिणी, जो सिंगापुर में रहती है, अपने पिता के गुर्दे की बीमारियों के बारे में बहुत चिंतित थी और यह वह थी जिसने लालू को डॉक्टरों की एक टीम से परामर्श करने के लिए सिंगापुर जाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, जिन्होंने गुर्दा प्रत्यारोपण की सलाह दी थी।