Breaking :
||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज||पलामू: संदिग्ध हालत में स्कूल में फंदे से लटका मिला प्रधानाध्यापक का शव, हत्या की आशंका||लातेहार: तालाब में डूबे बच्चे का 24 घंटे बाद भी नहीं मिला शव, तलाश के लिए पहुंची NDRF की टीम||मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने आलमगीर आलम से लिए सभी विभाग वापस||पलामू: कोयला से भरा ट्रक और बीड़ी पत्ता लदा ऑटो जब्त, पांच गिरफ्तार, दो लातेहार के निवासी||लातेहार: नहाने के दौरान तालाब में डूबने से दस वर्षीय बच्चे की मौत, शव की तलाश में जुटे ग्रामीण
Thursday, June 13, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

कोलकाता हाईकोर्ट ने कांग्रेस के तीनों विधायकों को दी सशर्त अंतरिम जमानत

कोलकाता : पश्चिम बंगाल में लाखों रुपये के साथ गिरफ्तार झारखंड कांग्रेस के तीन विधायकों को कोलकाता हाईकोर्ट से अंतरिम जमानत मिल गई है। हाईकोर्ट ने उन्हें तीन महीने की अंतरिम राहत दी है, लेकिन इसमें एक शर्त भी जोड़ दी है। कोर्ट ने कहा है कि विधायकों को हफ्ते में एक बार थाने में हाजिर होना होगा। उसे जांच अधिकारी के सामने पेश होना होगा। इसके साथ ही मामले की अगली सुनवाई की तारीख 10 नवंबर 2022 तय की गई।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

कोलकाता हाईकोर्ट में झारखंड कांग्रेस के तीन विधायकों की अदालत में दलील देने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने उनसे अपने मुवक्किलों को जमानत देने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि यह सच है कि विधायकों से करोड़ों रुपये मिले हैं। काला धन है या नहीं इसकी जांच आयकर विभाग करेगा। राज्य सरकार की पुलिस का इससे कोई लेना-देना नहीं है। मुकुल रोहतगी ने कहा कि उनके मुवक्किल झारखंड में होने वाले आदिवासी उत्सव के लिए साड़ी खरीदने के लिए पैसे लाए थे।

उधर, राज्य सरकार के वकील एसजी मुखर्जी ने विधायकों की जमानत का कड़ा विरोध किया। उन्होंने कहा कि साड़ी खरीदने के झूठे दावे किए जा रहे हैं। गिरफ्तार जनप्रतिनिधियों के पास से एक भी साड़ी बरामद नहीं हुई है. फिलहाल वे पुलिस हिरासत में हैं। बुधवार को टीआई परेड होगी। वहीं कोर्ट ने पूछा कि आप झारखंड विधानसभा के सदस्य हैं। स्पेशल कोर्ट में क्यों पहुंचे? उन्हें एमपी-एमएलए कोर्ट जाना चाहिए।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

सरकारी वकील ने तर्क दिया कि गिरफ्तार किए गए तीन लोग प्रभावशाली लोग थे। अगर उन्हें जमानत मिल जाती है तो जांच में दिक्कत आ सकती है। जांच कार्य बुरी तरह प्रभावित हो सकता है। उन्होंने कहा कि जांच अभी शुरुआती चरण में है। इसलिए कोर्ट को आरोपी को जमानत नहीं देनी चाहिए। उल्लेखनीय है कि झारखंड कांग्रेस के तीन विधायक इरफान अंसारी, नमन विक्सल कोंगाड़ी और राजेश कच्छप को बंगाल पुलिस ने करीब 50 लाख रुपये नकद के साथ गिरफ्तार किया था।

इन तीनों विधायकों पर आरोप है कि ये लोग झारखंड में तख्तापलट की साजिश में शामिल थे. पैसे के साथ, वह हेमंत सोरेन के नेतृत्व वाली झारखंड की संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार को बदलने के लिए एक सौदा करने के लिए बंगाल पहुंचे थे। इस दौरान तीनों को गिरफ्तार कर लिया गया।