Breaking :
||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर||एकतरफा प्यार में बाइक सवार मनचले ने स्कूटी सवार युवती को धक्का देकर मार डाला||आजसू ने रामगढ़ विधानसभा सीट से सुनीता चौधरी को मैदान में उतारा||झारखंड में अब मुफ्त नहीं मिलेगा पानी, सरकार को देना होगा 3.80 रुपये प्रति लीटर की दर से वाटर टैक्स||27 फरवरी से 24 मार्च तक झारखंड विधानसभा का बजट सत्र, राज्यपाल की मिली स्वीकृति||लातेहार: ऑपरेशन OCTOPUS के दौरान सुरक्षाबलों को मिली एक और बड़ी सफलता, अत्याधुनिक हथियार समेत भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता की गला रेत कर हत्या, जांच में जुटी पुलिस

झारखंड जल्द होगा सूखाग्रस्त घोषित, सभी मापदंडों पर तैयार हो रही रिपोर्ट

मुख्य सचिव 18 अगस्त को सभी उपायुक्तों के साथ करेंगे बैठक

रांची : राज्य में सूखे की स्थिति का जायजा लेने के लिए हर जिले में टीमें काम कर रही हैं. कृषि मंत्री बादल के मुताबिक टीम रविवार से अपनी रिपोर्ट सौंपना शुरू कर देगी। इस रिपोर्ट के आधार पर मुख्य सचिव सुखदेव सिंह 18 अगस्त को सभी उपायुक्तों के साथ बैठक कर सूखे की स्थिति पर रिपोर्ट देंगे। रिपोर्ट के आधार पर केंद्र सरकार की ओर से राज्य के प्रभावित प्रखंडों को सूखाग्रस्त घोषित करने का प्रस्ताव भेजा जाएगा।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

हालांकि मुख्य सचिव की बैठक के बाद आपदा प्रबंधन विभाग के मंत्री बन्ना गुप्ता समीक्षा करेंगे। तीसरे चरण में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन कृषि मंत्री की मौजूदगी में बारिश, रोपण, मिट्टी की नमी से संबंधित रिपोर्ट की समीक्षा करेंगे। वस्तुस्थिति पर विचार करने के बाद केंद्र सरकार से प्रभावित प्रखंडों को सूखा घोषित कर किसानों को मुआवजे देने की मांग राज्य सरकार करेगी।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

कृषि मंत्री बादल के मुताबिक, राज्य के कई हिस्सों में पिछले चार दिनों से मानसून सक्रिय है और अगले तीन-चार दिनों तक बारिश की संभावना है। इस बीच, संताल परगना, पलामू, उत्तरी छोटानागपुर के करीब सात-आठ जिलों में कम बारिश की स्थिति बनी हुई है। सरकार को अब तक विभिन्न जिलों से प्राप्त रिपोर्टों के अनुसार पलामू, गढ़वा और लातेहार के अधिकांश प्रखंडों की स्थिति बेहद खराब है और यहां सूखे से इंकार नहीं किया जा सकता।