Breaking :
||लातेहार: दो बाइकों की टक्कर में मामा-भांजा समेत चार घायल समेत बालूमाथ की दो खबरें||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, जांच में जुटी पुलिस||झारखंड कैबिनेट की बैठक 19 जून को, लिये जायेंगे कई अहम फैसले||रजरप्पा को विश्वस्तरीय धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में किया जाये विकसित, कार्ययोजना करें तैयार : मुख्यमंत्री||झारखंड में IPS अधिकारियों का ट्रांसफर-पोस्टिंग||पलामू में प्रतिबंधित मांस का टुकड़ा फेंके जाने से तनाव, इलाका पुलिस छावनी में तब्दील||JBKSS प्रमुख जयराम महतो ने की विधानसभा चुनाव में 55 सीटों पर लड़ने की घोषणा||मुठभेड़ में पांच नक्सलियों को मार गिराने वाली टीम को DGP ने किया सम्मानित, कहा- मुख्य धारा में लौटें, अन्यथा मारे जायेंगे||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम
Wednesday, June 19, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

आसमान से बरस रही आग, ‘नौतपा’ के कहर से जल रहा झारखंड, जानें क्या है ‘नौतपा’ और कब तक रहेगा असर

नौतपा 2024 का असर

रांची : राज्य नौतपा कहर से तप रहा है। आसमान से बरसती आग से मनुष्य ही नहीं, पशु-पक्षी भी परेशान हैं। राज्य के 17 जिलों में तापमान 40 के पार पहुंच चुका है। पलामू में 47.8 डिग्री तापमान पहुंच गया है। राजधानी रांची में गुरुवार दस बजे के बाद सड़कों पर निकलना दूभर हो गया। हालांकि शाम चार बजे के बाद आसमान में बादल छाने से थोड़ी राहत मिली।

पंडित मनोज पाण्डेय ने बताया कि ऐसे मौसम को नौतपा कहा जाता है। नौतपा में आंधी-बारिश का होना बड़ी बात नहीं है। पर नौतपा का प्रकोप भी बरकरार रहता है। उन्होंने बताया कि नौतपा 25 मई से शुरू हुआ है, इसका प्रकोप दो जून तक रहेगा। जैसे-जैसे दिन गुजरेंगे तापमान में भी बढ़ोतरी होती जायेगी। उन्होंने बताया कि इस दौरान सूर्य रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करता है। इससे सूर्य की किरणें सीधा पृथ्वी पर पड़ती है, जिस कारण लोगों को तेज धूप का सामना करना पड़ता है।

उन्होंने बताया कि नौतपा के कई फायदे बताये जाते हैं। इससे सांप-बिच्छू और चूहे पर नियंत्रण रहता है। फसल को नुकसान पहुंचाने वाले कीट और टिड्डियों के अंडे नष्ट हो जाते हैं। बुखार लाने वाले जीवाणु का भी खात्मा हो जाता है। आंधी का प्रकोप भी नहीं रहता। नौतपा के बाद अच्छी बारिश होती है, जो खेती-बाड़ी में सहायक होती है।

नौतपा 2024 का असर