Breaking :
||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी||गढ़वा: पड़ोसी युवक के साथ भागी दो बच्चों की मां, बंधक बनाकर पीटा||भूख हड़ताल पर बैठे पारा मेडिकल कर्मियों की तबीयत बिगड़ी, भेजा अस्पताल||Good News: झारखंड में मरीजों के लिए जल्द शुरू होगी एयर एंबुलेंस की सुविधा, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान||लातेहार: मनिका बालक मध्य विद्यालय में हुई चोरी मामले का खुलासा, तीन गिरफ्तार, चोरी का सामान बरामद||चतरा में सुरक्षाबलों से नक्सलियों की मुठभेड़, एक नक्सली ढेर, देखें तस्वीर||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत

झारखंड कैबिनेट में फेरबदल, कांग्रेस के लिए नयी मुसीबत, फूट पड़ने की आशंका बढ़ी

रांची : कांग्रेस में सब कुछ ठीक नहीं है। कैश स्कैंडल में पार्टी के तीन विधायक फिलहाल जेल में हैं। पार्टी के प्रभारी पहले ही कांग्रेस कोटे के मंत्रियों में फेरबदल के संकेत दे चुके हैं। अब जबकि झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र भी समाप्त हो गया है, इस दिशा में भी मामला आगे बढ़ेगा। हालांकि कांग्रेस विधायक दल की बैठक में तमाम शिकायतें दूर होने की चर्चा है, लेकिन मंत्री पद बदलने के बाद भी पार्टी में फूट पड़ने की आशंका है।

पार्टी कांग्रेस कोटे से चार में से दो या तीन मंत्रियों को बदलने का मन बना रही है। ऐसे में उनकी जगह दो-तीन विधायकों को मंत्री बनने का मौका मिलेगा। वे विधायक जो मंत्री नहीं बन पाएंगे या जिन्हें मंत्री पद से हटना होगा, वे विरोध का झंडा खड़ा कर सकते हैं। राष्ट्रपति चुनाव में कांग्रेस के नौ से 10 विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की थी। वहीं, पार्टी को कई अन्य विधायकों के भी कैश कांड में शामिल होने की आंतरिक जानकारी मिली है।

ऐसे में पार्टी की रिपोर्ट के मुताबिक जो विधायक न तो क्रॉस वोटिंग में शामिल थे और न ही कैश स्कैंडल में शामिल थे, उन्हें पार्टी के साथ खड़े होने के लिए मंत्री पद मिल सकता है। पार्टी उन्हें शॉर्टलिस्ट कर रही है। दोनों में शामिल विधायकों को मंत्री पद मिलने की संभावना नहीं है। हालांकि ऐसे विधायक क्रॉस वोटिंग और कैश स्कैंडल में शामिल होने से भी इनकार कर रहे हैं।

कैश कांड में जेल में बंद तीन विधायकों के बयान से दूसरे विधायकों का भविष्य तय होगा, वहीं अगर सरकार विधायकों को किसी न किसी रूप में मंत्री बनाएगी तो अन्य विधायकों में रोष होगा और बंटवारे की संभावना बढ़ जाएगी। ऐसे में पार्टी मंत्रिमंडल में फेरबदल की प्रक्रिया को आगे बढ़ा सकती है।