Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार युवक की मौत समेत बालूमाथ की चार खबरें||झारखंड: आग लगने की सूचना पर ट्रेन से कूदे यात्री, झाझा-आसनसोल यात्रियों के ऊपर से गुजरी, 12 की मौत||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पहुंचीं रांची, सेंट्रल यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में हुईं शामिल, कहा- दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की राह पर भारत||झारखंड में बिजली हुई महंगी, नयी दरें एक मार्च से होंगी लागू||झारखंड में बड़े पैमाने पर BDO की ट्रांसफर-पोस्टिंग, यहां देखें पूरी लिस्ट||दुमका में फिर पेट्रोल कांड, प्रेमिका और उसकी मां पर पेट्रोल डाल कर प्रेमी ने लगायी आग||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में चार नक्सली ढेर, शव बरामद||UP राज्यसभा चुनाव में BJP के आठों उम्मीदवारों ने की जीत हासिल||माओवादी टॉप कमांडर रविंद्र गंझू के दस्ते का सक्रिय सदस्य ढेचुआ गिरफ्तार||पलामू: तूफान और बारिश ने मचायी तबाही, दो छात्रों की मौत, कहीं गिरे पेड़ तो कहीं ब्लैकआउट
Thursday, February 29, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

हेमंत सरकार का निर्णय, सरकारी कार्यक्रमों में ‘जोहार’ शब्द से अभिवादन करना अनिवार्य

झारखंड में जोहार अभिवादन अनिवार्य

रांची : झारखंड सरकार ने सरकारी कार्यक्रमों में सरकारी अधिकारियों के अभिवादन के लिए जोहार शब्द अनिवार्य कर दिया है। अधिकारियों को सभी कार्यक्रमों में आम जनता के अभिवादन के लिए जोहार शब्द का प्रयोग करना होगा। झारखंड की आदिवासी संस्कृति में अभिवादन के प्रचलित तरीके को हेमंत सरकार ने अंगीकृत कर लिया है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

राज्य सरकार की ओर से आयोजित कार्यक्रमों एवं सरकारी समारोह में अभिवादन के लिए जोहार शब्द का प्रयोग करने का निर्देश दिया है। इस संबंध में मंत्रिमंडल सचिवालय, समन्वय एवं निगरानी विभाग के प्रधान सचिव अजय कुमार सिंह ने सोमवार को दिशा-निर्देश जारी किया है। सभी अपर मुख्य सचिव, सभी प्रधान सचिव, सभी सचिव, प्रमंडलीय आयुक्त, विभाग अध्यक्ष और सभी उपायुक्तों को इस संबंध में उन्होंने पत्र लिखा है। राज्य सरकार के निर्णय से अवगत कराया है।

कैबिनेट सचिव अजय कुमार सिंह ने कहा है कि झारखंड की पहचान एक जनजातीय बहुल राज्य के रूप में है। ऐसे में झारखंड राज्य संस्कृति में जोहार बोल कर अभिवादन किए जाने की परंपरा है, जो इस राज्य को विशिष्ट संस्कृति एवं संपर्क परंपरा को प्रतिबिंबित करता है। ऐसे में उपयुक्त परिपेक्ष में यह निर्णय लिया गया है कि राज्य सरकार द्वारा आयोजित कार्यक्रमों एवं सरकारी समारोह में अभिवादन के लिए जोहार शब्द का उपयोग किया जायेगा।

कैबिनेट सचिव ने कहा कि सरकार ने यह भी निर्णय लिया गया कि सभी प्रकार के राजकीय कार्यक्रमों सरकारी समारोह में गणमान्य अतिथियों के स्वागत के लिए पुष्प गुच्छ या अकेला पुष्प का उपयोग नहीं किया जाए बल्कि पौधा, पुस्तक, शॉल या मेमेंटो देकर स्वागत किया जा सकता है। इस संबंध में 25 जुलाई 2019 को दिए गये आदेश को संशोधित किया गया।

झारखंड में जोहार अभिवादन अनिवार्य