Breaking :
||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज||पलामू: संदिग्ध हालत में स्कूल में फंदे से लटका मिला प्रधानाध्यापक का शव, हत्या की आशंका||लातेहार: तालाब में डूबे बच्चे का 24 घंटे बाद भी नहीं मिला शव, तलाश के लिए पहुंची NDRF की टीम||मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने आलमगीर आलम से लिए सभी विभाग वापस||पलामू: कोयला से भरा ट्रक और बीड़ी पत्ता लदा ऑटो जब्त, पांच गिरफ्तार, दो लातेहार के निवासी
Friday, June 14, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

आदिवासियों को स्मार्ट कहे जाने के मुद्दे पर इरफान अंसारी ने सदन में जताया खेद

रांची : झारखंड विधानसभा के मानसून सत्र के पांचवें दिन गुरुवार को सुबह 11 बजे सत्र शुरू होने के साथ ही बीजेपी विधायक वेल में आ गये और कांग्रेस के इरफान अंसारी के आदिवासी समाज और बाबूलाल मरांडी पर दिये गये बयान का विरोध करने लगे। विधायक शशिभूषण मेहता के आचरण को लेकर स्पीकर काफी नाराज दिखे। यहां तक कि मार्शल से उन्हें सदन से बाहर निकालने को भी कहा। उन्होंने बार-बार बीजेपी विधायकों से सीट पर जाने की अपील की।

नाराजगी जताते हुए कहा कि सदन कोई अखाड़ा नहीं है। एक पल के लिए स्पीकर भी उत्तेजना में खड़े हो गये। उन्होंने कहा कि सदन में सदस्य हाथ उठाकर बात कर रहे हैं जो ठीक नहीं है। सदस्य बांह मोड़कर चले जाते हैं। वे आसन को चुनौती दे रहे हैं। उन्हें अपनी जगह पर बैठना चाहिये। उन्हें दुर्व्यवहार सहने की आदत नहीं है। बार-बार हो रहे शोर-शराबे के बीच स्पीकर ने 11.25 बजे सदन की कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

इन सबके बीच विधायक इरफान अंसारी ने कहा कि दो दिन पहले डिबेट के दौरान उन्होंने आदिवासियों के संबंध में जो कहा, उसे सदन ने स्पंज कर दिया था। आदिवासियों को उन्होंने कुछ नहीं कहा था। फिर भी वे खेद व्यक्त करते हैं। उनकी ऐसी भावना नहीं थी। वे आदिवासी समाज के बड़े हितैषी हैं। मध्य प्रदेश में पिछले दिनों एक आदिवासी युवक पर जिस तरह से पेशाब किया गया था, वे उसके लिए अपनी बात कह रहे थे। इससे पहले विधायक प्रदीप यादव ने कहा कि भाजपा विधायक शशिभूषण मेहता का व्यवहार सदन में ठीक नहीं है। स्पीकर उन्हें दो दिनों के लिए निष्कासित कर दें।

सदन शुरू होने के बाद हंगामे के बीच भाजपा विधायक अनंत ओझा ने राज्य सरकार पर किसानों को ठगने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि सत्ता पक्ष बुधवार को किसान हित के नाम पर घड़ियाली आंसू बहा रहा था आठ लाख उनचास हजार से अधिक किसानों को पीएम किसान राहत से वंचित रखा गया है और इसका झूठा आरोप केंद्र पर लगाया है। सच यही है कि केंद्र लगातार किसानों को मदद दे रहा है लेकिन राज्य सरकार लगातार गलत बयानी कर रही है। समीर कुमार मोहंती ने आंगनबाड़ी सेविकाओं को पोषाहार की राशि समय पर भेजे जाने की अपील की। उन्होंने कहा कि 86 करोड़ 96 लाख 50 हजार रुपये पोषाहार के लिए अभी जारी किए गए है पर होना यह चाहिए कि नियमित समय पर यह राशि आवंटित हो।

उल्लेखनीय है कि अनुपूरक बजट पर कटौती प्रस्ताव पर दो दिनों पहले सदन में चर्चा के क्रम में इरफान ने बाबूलाल मरांडी को टारगेट करते कहा था कि कोई आदिवासी इतना स्मार्ट कैसे हो सकता है। इसे लेकर भाजपा के लोग उन पर सदन में और सदन से बाहर हमलावर हैं।

Jharkhand Legislative Assembly News