Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

अंतर जिला बाइक चोर गिरोह का पर्दाफाश, 10 आरोपी गिरफ्तार, 11 बाइक बरामद

रामगढ़ जिले की पुलिस ने अंतर जिला बाइक चोर गिरोह का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने 10 आरोपितों को गिरफ्तार किया है। उनके इशारे पर उनके द्वारा चोरी की गई 11 बाइक भी जब्त कर ली गई है। ये सभी बाइक रांची, रामगढ़, बोकारो और हजारीबाग जिलों में रेकी कर टारगेट फिक्स करते थे और फिर टारगेट को अंजाम देकर बाइक चोरी कर लेते थे। वे ग्रामीण इलाकों में महंगी बाइक सस्ते दामों पर बेचते थे। एसपी प्रभात कुमार ने पत्रकारों को यह जानकारी दी.

एसपी कुमार ने बताया कि पश्चिम बोकारो पुलिस ने पेशेवर तरीके से कार्य करते हुए अंतर जिला बाइक चोर गिरोह के 10 सदस्यों को 11 बाइक चोरी के साथ गिरफ्तार किया है। बाइक चोर गिरोह के सदस्य अपने विलासिता के लिए चोरी की घटनाओं को अंजाम देते थे। बाइक बेचने के बाद जो पैसे मिलते थे, उससे वह महंगे जूतों, महंगे कपड़ों का होटलों में कारोबार करता था।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

पकड़े गए 10 बाइक चोरों में से चार गैंग लीडर के तौर पर काम कर रहे थे। उनके कहने पर गिरोह के बाकी सदस्य बाइक चोरी को अंजाम देते थे और चोरी के बाद रांची, रामगढ़, हजारीबाग और बोकारो जिलों के सीमावर्ती इलाकों में आसानी से महंगी बाइकों को सस्ते में बेच देते थे।

एसपी ने बताया कि महंगी बाइक सस्ती मिलने के कारण खरीदार ग्रामीण क्षेत्रों में बिना जांच के ही हलफनामे में बाइक का इस्तेमाल करते थे। बुधवार की देर शाम अपराध विरोधी जांच के दौरान पश्चिम बोकारो थाना क्षेत्र में बाइक की जांच की जा रही थी।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

इस दौरान बिना नंबर की एक बाइक पुलिस को देख भागने की कोशिश करने लगी। पुलिस ने पीछा कर उसे पकड़ लिया और पूछताछ शुरू हुई तो लिंक शुरू हुआ और हजारीबाग बोकारो व रामगढ़ जिले से बाइक चोर गिरोह के सदस्यों को एक के बाद एक दबोच लिया।

इनकी गिरफ्तारी के बाद इनके इशारे पर 11 बाइक बरामद की गई है। जो आसपास के जिलों और रामगढ़ जिले से चोरी हुए थे। उनकी गिरफ्तारी के बाद पुलिस अधीक्षक ने उम्मीद जताई है कि सीमावर्ती जिलों में भी बाइक चोरी की घटनाओं में कमी आएगी।