Breaking :
||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी||गढ़वा: पड़ोसी युवक के साथ भागी दो बच्चों की मां, बंधक बनाकर पीटा||भूख हड़ताल पर बैठे पारा मेडिकल कर्मियों की तबीयत बिगड़ी, भेजा अस्पताल||Good News: झारखंड में मरीजों के लिए जल्द शुरू होगी एयर एंबुलेंस की सुविधा, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान||लातेहार: मनिका बालक मध्य विद्यालय में हुई चोरी मामले का खुलासा, तीन गिरफ्तार, चोरी का सामान बरामद||चतरा में सुरक्षाबलों से नक्सलियों की मुठभेड़, एक नक्सली ढेर, देखें तस्वीर||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत

सिकनी के एक मामले में JSMDC के MD हाई कोर्ट में सशरीर हुए उपस्थित

रांची : झारखंड हाई कोर्ट के जस्टिस एस चंद्रशेखर और जस्टिस रत्नाकर भेंगरा की खंडपीठ ने गुरुवार को तिरुपति इंटरप्राइजेज द्वारा कोयला उठाव को लेकर दायर अवमानना मामले की सुनवाई की। सुनवाई के दौरान जेएसएमडीसी के एमडी अमित कुमार शारीरिक रूप से अदालत के समक्ष उपस्थित हुए।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उन्होंने अदालत को बताया कि कंपनी को कोयला उठाने के लिए 45 दिन का समय दिया गया है, जिसके बाद अदालत ने याचिकाकर्ता को जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया। सिकनी कोल माइंस से आवंटन के बाद भी कोयला नहीं मिलने पर तिरुपति इंटरप्राइजेज ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। राज्य सरकार की ओर से महाधिवक्ता राजीव रंजन ने बहस की।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

याचिकाकर्ता की ओर से कहा गया कि सिकनी (लातेहार) में वर्ष 2020 में एक लाख टन कोयला आवंटन का आदेश था लेकिन तिरुपति इंटरप्राइजेज को 75 हजार 800 टन कोयला नहीं मिला। अब इस मामले की अगली सुनवाई की तारीख 20 दिसंबर तय की गयी है।