Breaking :
||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता का इंडी गठबंधन पर हमला, कहा- कोड वर्ड के जरिये बेच दिया झारखंड को||टेंडर कमीशन देने में पांकी के ठेकेदार का भी नाम : शशिभूषण मेहता||टेंडर घोटाले की जांच में पूर्व मंत्री आलमगीर आलम नहीं कर रहे सहयोग : ED||पांचवें चरण में 63.21 फीसदी वोटिंग, पुरुषों से ज्यादा रही महिलाओं की भागीदारी||गढ़वा: शादी समारोह में शामिल होने जा रही मां-बेटी की सड़क हादसे में मौत, बेटा और बेटी की हालत नाजुक||झारखंड: स्कूलों में शत प्रतिशत नामांकन को लेकर राज्य शिक्षा परियोजना गंभीर, लापरवाही बरतने पर होगी कार्रवाई||टेंडर कमीशन घोटाला मामला: ED ने अब IAS मनीष रंजन को पूछताछ के लिए बुलाया||मतदान केंद्र में फोटो या वीडियो लेना अपराध, की जा रही है कार्रवाई : मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी||लातेहार: बालूमाथ में बाइक दुर्घटना में एक युवक की मौत, दूसरा गंभीर, रिम्स रेफर||गढवा: डोभा में नहाने के दौरान डूबने से JJM नेता के पोते समेत दो किशोरों की मौत
Thursday, May 23, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड: सरकारी विभागों में अधिकारियों के प्रमोशन पर हाईकोर्ट ने लगायी रोक

रांची: झारखंड हाईकोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए राज्य के सभी विभागों के अधिकारियों की प्रमोशन पर रोक लगा दी है। श्रीकांत दुबे व अन्य ने राज्य के डीजीपी और प्रमुख सचिव कार्मिक, प्रशासनिक सुधार एवं राजभाषा विभाग के 3 जून 2022 के आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती दी थी।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति डॉ. एस एन पाठक की अदालत ने मामले की सुनवाई करते हुए आदेश दिया कि प्रमुख सचिव कार्मिक, प्रशासनिक सुधार और राजभाषा विभाग और राज्य के डीजीपी एक हलफनामा दाखिल कर बताएं कि क्या उपरोक्त दोनों आदेश न्याय संगत हैं या नहीं। कोर्ट ने उन्हें 2 हफ्ते में हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया है। साथ ही मामले की सुनवाई 18 अगस्त को तय की गई है। तब तक प्रमोशन की प्रक्रिया रोक दी जाएगी।

आपको बता दें कि 24 दिसंबर 2020 को राज्य सरकार ने निर्णय लिया था कि अगले आदेश तक किसी भी विभाग में पदोन्नति नहीं दी जाएगी। उस आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई थी। बाद में हाईकोर्ट ने 13 जनवरी 2022 को आदेश दिया और 24 दिसंबर 2020 के सरकार के आदेश को निरस्त कर दिया। इसके साथ ही राज्य सरकार को सभी विभागों में सक्षम अधिकारियों को पदोन्नति का लाभ देने का आदेश दिया गया।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

इसके बाद 3 जून 2022 को राज्य सरकार के प्रधान सचिव कार्मिक प्रशासनिक सुधार एवं राजभाषा विभाग ने एक आदेश निकाला की प्रोन्नति सभी विभागों में तत्काल प्रभाव से दिया जाएगा। साथ ही यह शर्त लगा दिया कि एसटी / एससी के कर्मी जनरल कैडर में भी वरीयता के आधार पर प्रोन्नति ले सकते हैं। इसके आलोक में राज्य के डीजीपी ने 23 जून 2022 को एक आदेश निकाला जिसमें एएसआई से एसआई के लिए सभी वाहिनी एवं जिला में मनोनयन की मांग किया था। डीजीपी एवं प्रधान सचिव कार्मिक प्रशासनिक एवं सुधार राजभाषा विभाग के आदेश को प्रार्थी ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। प्रार्थी की ओर से अधिवक्ता दिवाकर उपाध्याय ने पैरवी की।