Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

झारखंड: सरकारी विभागों में अधिकारियों के प्रमोशन पर हाईकोर्ट ने लगायी रोक

रांची: झारखंड हाईकोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए राज्य के सभी विभागों के अधिकारियों की प्रमोशन पर रोक लगा दी है। श्रीकांत दुबे व अन्य ने राज्य के डीजीपी और प्रमुख सचिव कार्मिक, प्रशासनिक सुधार एवं राजभाषा विभाग के 3 जून 2022 के आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती दी थी।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति डॉ. एस एन पाठक की अदालत ने मामले की सुनवाई करते हुए आदेश दिया कि प्रमुख सचिव कार्मिक, प्रशासनिक सुधार और राजभाषा विभाग और राज्य के डीजीपी एक हलफनामा दाखिल कर बताएं कि क्या उपरोक्त दोनों आदेश न्याय संगत हैं या नहीं। कोर्ट ने उन्हें 2 हफ्ते में हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया है। साथ ही मामले की सुनवाई 18 अगस्त को तय की गई है। तब तक प्रमोशन की प्रक्रिया रोक दी जाएगी।

आपको बता दें कि 24 दिसंबर 2020 को राज्य सरकार ने निर्णय लिया था कि अगले आदेश तक किसी भी विभाग में पदोन्नति नहीं दी जाएगी। उस आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई थी। बाद में हाईकोर्ट ने 13 जनवरी 2022 को आदेश दिया और 24 दिसंबर 2020 के सरकार के आदेश को निरस्त कर दिया। इसके साथ ही राज्य सरकार को सभी विभागों में सक्षम अधिकारियों को पदोन्नति का लाभ देने का आदेश दिया गया।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

इसके बाद 3 जून 2022 को राज्य सरकार के प्रधान सचिव कार्मिक प्रशासनिक सुधार एवं राजभाषा विभाग ने एक आदेश निकाला की प्रोन्नति सभी विभागों में तत्काल प्रभाव से दिया जाएगा। साथ ही यह शर्त लगा दिया कि एसटी / एससी के कर्मी जनरल कैडर में भी वरीयता के आधार पर प्रोन्नति ले सकते हैं। इसके आलोक में राज्य के डीजीपी ने 23 जून 2022 को एक आदेश निकाला जिसमें एएसआई से एसआई के लिए सभी वाहिनी एवं जिला में मनोनयन की मांग किया था। डीजीपी एवं प्रधान सचिव कार्मिक प्रशासनिक एवं सुधार राजभाषा विभाग के आदेश को प्रार्थी ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। प्रार्थी की ओर से अधिवक्ता दिवाकर उपाध्याय ने पैरवी की।