Breaking :
||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर||युवक ने थाने की हाजत में लगायी फां*सी, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप
Sunday, February 25, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

कोर्ट का फैसला, रिमांड अवधि में ED की हिरासत में रहेंगे हेमंत सोरेन, जेल में रखने की मांग खारिज

रांची : शनिवार को ईडी के विशेष न्यायाधीश दिनेश राय की अदालत ने पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को रिमांड अवधि के दौरान दिन में पूछताछ के बाद रात में होटवार स्थित बिरसा मुंडा जेल में रखने की मांग खारिज कर दी।

रिमांड अवधि के दौरान हेमंत सोरेन के पास पूरी तरह से ईडी की हिरासत रहेगी। कोर्ट में हेमंत सोरेन के महाधिवक्ता राजीव रंजन की ओर से सुरक्षा के दृष्टिकोण से दिन में पूछताछ के बाद रात में हेमंत सोरेन को बिरसा मुंडा जेल या अन्य सुरक्षित स्थान पर रखने की अनुमति मांगी गयी। यह भी कहा गया कि ईडी दफ्तर में उनकी जान को खतरा है, जिसे कोर्ट ने नहीं माना। कोर्ट ने रिमांड अवधि के दौरान हेमंत सोरेन के वकील, रिश्तेदारों और पत्नी को आधे घंटे के लिए उनसे मिलने की इजाजत दी है।

इससे पहले शुक्रवार को इस मामले में दोनों पक्षों की सुनवाई पूरी होने के बाद ईडी कोर्ट ने मामले में अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। ईडी की ओर से हाईकोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता अनिल कुमार ने पक्ष रखा। ईडी ने कहा कि रिमांड में दो तरह की कस्टडी होती है, आधी और आधी कस्टडी नहीं होती। या तो हेमंत सोरेन को न्यायिक हिरासत में जेल में रखा जाये या फिर रिमांड के दौरान पूछताछ का पूरा नियंत्रण उन्हें दिया जाये। अनुसंधान में क्या पूछना है और कब तक पूछना है, यह कोई और तय नहीं कर सकता। गौरतलब है कि ईडी ने हेमंत को पांच दिनों की रिमांड पर लेकर पूछताछ शुरू कर दी है।

Hemant Soren ED custody