Breaking :
||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर||एकतरफा प्यार में बाइक सवार मनचले ने स्कूटी सवार युवती को धक्का देकर मार डाला||आजसू ने रामगढ़ विधानसभा सीट से सुनीता चौधरी को मैदान में उतारा||झारखंड में अब मुफ्त नहीं मिलेगा पानी, सरकार को देना होगा 3.80 रुपये प्रति लीटर की दर से वाटर टैक्स||27 फरवरी से 24 मार्च तक झारखंड विधानसभा का बजट सत्र, राज्यपाल की मिली स्वीकृति||लातेहार: ऑपरेशन OCTOPUS के दौरान सुरक्षाबलों को मिली एक और बड़ी सफलता, अत्याधुनिक हथियार समेत भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता की गला रेत कर हत्या, जांच में जुटी पुलिस

ED के समन पर भड़के हेमंत सोरेन कहा- पूछताछ क्यों, इतना संगीन जुर्म किया है तो गिरफ्तार कर दिखाओ

रांची: ईडी के समन पर गुरुवार को झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन पेश नहीं हुए, लेकिन इस बहाने उन्होंने बीजेपी नीत केंद्र सरकार पर तीखा हमला बोला. उन्होंने कहा कि अगर मेरी ओर से कोई संगीन अपराध किया गया है तो समन और नोटिस क्यों भेजे जा रहे हैं, आओ और मुझे गिरफ्तार कर लो।

हेमंत सोरेन ने कहा, ‘मुझे ईडी ने आज के लिए तलब किया था, जब मेरा आज छत्तीसगढ़ में एक कार्यक्रम था। यदि मैंने कोई अपराध किया है तो आकर मुझे गिरफ्तार कर लो। इसके लिए जांच की क्या जरूरत है? ईडी कार्यालय के बाहर सुरक्षा क्यों बढ़ा दी गयी है? आप झारखंडियों से क्यों डरते हैं?’

आने वाले लोकसभा व विधानसभा चुनाव में राज्य से भीजेपी का हो जाएगा सफाया

हेमंत सोरेन ने कहा कि हमने राज्य में कुछ बाहरी गिरोहों की पहचान की है। जो चाहते हैं कि झारखंड के आदिवासी अपने पैरों पर खड़े न हो सकें। इस राज्य में झारखंडियों का राज होगा, कोई बाहरी ताकत इस पर कब्जा नहीं कर पाएगी। आने वाले लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव में राज्य से बीजेपी का सफाया हो जाएगा। इस बीच हेमंत सोरेन को ईडी के समन के खिलाफ झारखंड मुक्ति मोर्चा सड़क पर उतर आया है। राजधानी रांची के ऐतिहासिक मोरहाबादी मैदान में पहले सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ता जुटे और वहां से रैली के रूप में मुख्यमंत्री आवास पहुंचे।

भाजपा और केंद्रीय एजेंसियों के खिलाफ नारेबाजी

मुख्यमंत्री आवास पर राज्यसभा सांसद महुआ माजी, केंद्रीय महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य, विधायक दीपक बिरुआ व बैजनाथ राम व वरिष्ठ नेता विनोद पांडेय के नेतृत्व में कार्यकर्ता पहुंचे। कार्यकर्ताओं ने पार्टी का झंडा लहराया। मुख्यमंत्री आवास के बाहर झामुमो कार्यकर्ताओं ने केंद्र सरकार, भाजपा और केंद्रीय एजेंसियों के खिलाफ नारेबाजी की।

झामुमो नेताओं का भाजपा पर तीखा हमला

प्रदर्शन में शामिल झामुमो के केंद्रीय महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य, विधायक दीपक बिरुआ और बैजनाथ राम ने मुख्य विपक्षी दल भाजपा पर जमकर हमला बोला। सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि 2019 के विधानसभा चुनाव में हमें स्पष्ट और पूर्ण जनादेश मिला। सामंतवादी सोच वाली पार्टी इसे पचा नहीं पा रही है। आदिवासी मुख्यमंत्री उन्हें हजम नहीं हो रहे हैं। सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि सीएम ने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम किए हैं इसलिए वह ईडी कार्यालय नहीं गए।

विधायक दीपक बिरुआ ने कहा कि बीजेपी सत्ता के लिए असंवैधानिक काम कर रही है। आनन-फानन में मुख्यमंत्री को तलब किया गया। उन्होंने कहा कि हमने विशेष सत्र बुलाकर बहुमत साबित कर दिया है, लेकिन ये लोग हजम नहीं हो रहे हैं।

विधायक बैजनाथ राम ने कहा कि चुनाव आयोग का लिफाफा राजभवन में इतने दिनों से क्यों पड़ा है। यदि इसमें कोई तथ्य है, तो महामहिम इसे सार्वजनिक करें।

मुख्यमंत्री आवास के बाहर जुटा कार्यकर्ताओं का हुजूम

इधर, झामुमो कार्यकर्ताओं के विरोध के चलते मुख्यमंत्री आवास की ओर जाने वाली सड़कों पर जाम जैसी स्थिति पैदा हो गयी। कांके रोड के रास्ते में कुछ स्कूल बसें जाम में फंस गईं। पार्टी का झंडा पकड़े कार्यकर्ता लगातार नारेबाजी कर रहे थे। सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि यह कार्यकर्ताओं की स्वाभाविक प्रतिक्रिया है। उन्होंने कहा कि झामुमो संघर्ष की पार्टी है। सामंतवादी मानसिकता के खिलाफ सड़क से लेकर घर तक धरना प्रदर्शन होगा। यह सिर्फ शुरुआत है। बता दें कि ईडी ने आज सीएम को तलब किया था लेकिन वे नहीं गये।