Breaking :
||झारखंड में पांचवें चरण का चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न, आचार संहिता उल्लंघन के सात मामले दर्ज||लातेहार में शांतिपूर्ण माहौल में मतदान संपन्न, 65.24 फीसदी वोटिंग||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश
Tuesday, May 21, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड: हाईकोर्ट में पारा शिक्षकों के समायोजन मामले में हुई सुनवाई

रांची : झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन की अध्यक्षता वाली खंडपीठ में मंगलवार को टेट परीक्षा पास पारा शिक्षकों के समायोजन के मामले की सुनवाई के दौरान प्रार्थी की ओर से कहा गया कि पारा शिक्षकों को सहायक शिक्षक के बराबर मिलना चाहिए। यह भी कहा गया कि वे लंबे समय से पारा शिक्षक के तौर पर काम कर रहे हैं। ऐसे में उन्हें रेगुलराइज किया जाना चाहिए। मामले की अगली सुनवाई 30 नवंबर को निर्धारित की गयी है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

गौरतलब है कि पारा शिक्षकों के वेतन व सहायक शिक्षक के रूप में नियमितीकरण के मामले में आवेदक सुनील कुमार यादव सहित अन्य की करीब 111 याचिकाएं हाईकोर्ट में दाखिल की गयी हैं। याचिका में कहा गया है कि वह 15 साल से अधिक समय से पारा शिक्षक के रूप में काम कर रहे हैं। साथ ही, वे शिक्षक पद के लिए योग्यता को पूरा करते हैं। राज्य सरकार को उनकी सेवा स्थायी करनी चाहिए और उन्हें सहायक शिक्षक के पद पर समायोजित किया जाना चाहिए। साथ ही उन्हें समान काम के लिए समान वेतन दिया जाए। सुनवाई के दौरान बड़ी संख्या में पारा शिक्षक कोर्ट परिसर में मौजूद रहे।