Breaking :
||लातेहार: लापरवाह वाहन चालक हो जायें सावधान! कल से पुलिस चलायेगी जिलेभर में सघन वाहन चेकिंग अभियान||झारखंड की नाबालिग लड़की के साथ अमानवीय व्यवहार करने वालों के खिलाफ मुख्यमंत्री ने दिये सख्त कार्रवाई के आदेश||लातेहार: बालूमाथ में ट्यूशन पढ़ाकर घर लौट रहे शिक्षक की सड़क दुर्घटना में मौत||हेमंत सरकार ने खिलाड़ियों के सर्वांगीण विकास को लेकर की जोहार खिलाड़ी स्पोर्ट्स इंटीग्रेटेड पोर्टल की शुरुआत, खिलाड़ियों की समस्याओं के निराकरण में होगा सहायक||रामगढ़, चतरा व लातेहार में कोयला कारोबारियों पर जानलेवा हमला करने वाले TSPC के चार उग्रवादी गिरफ्तार, एक लातेहार का||अब राज्य के सरकारी शिक्षकों को ‘लीव मैनेजमेंट मॉड्यूल’ के माध्यम से ही मिलेगी छुट्टी, अन्य माध्यमों से दिये गये आवेदन होंगे रद्द||लातेहार: बालूमाथ में हुई विवाहिता हत्याकांड का खुलासा, चार अभियुक्तों ने मिलकर की थी बेरहमी से हत्या||पलामू: शहर में बिना अनुमति के जुलूस निकालने पर होगी कार्रवाई, रात 10 बजे के बाद डीजे बजाने पर रोक||लातेहार: मवेशियों से लदा ट्रक दुर्घटनाग्रस्त, ग्रामीणों ने एक तस्कर को पकड़ कर किया पुलिस के हवाले, डाल्टनगंज से खरीद कर रांची के मांस कारोबारी को जा रहे थे पहुंचाने||प्रेमिका से वीडियो कॉल पर बात करते प्रेमी ने दे दी जान

झारखंड: हाईकोर्ट में पारा शिक्षकों के समायोजन मामले में हुई सुनवाई

रांची : झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन की अध्यक्षता वाली खंडपीठ में मंगलवार को टेट परीक्षा पास पारा शिक्षकों के समायोजन के मामले की सुनवाई के दौरान प्रार्थी की ओर से कहा गया कि पारा शिक्षकों को सहायक शिक्षक के बराबर मिलना चाहिए। यह भी कहा गया कि वे लंबे समय से पारा शिक्षक के तौर पर काम कर रहे हैं। ऐसे में उन्हें रेगुलराइज किया जाना चाहिए। मामले की अगली सुनवाई 30 नवंबर को निर्धारित की गयी है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

गौरतलब है कि पारा शिक्षकों के वेतन व सहायक शिक्षक के रूप में नियमितीकरण के मामले में आवेदक सुनील कुमार यादव सहित अन्य की करीब 111 याचिकाएं हाईकोर्ट में दाखिल की गयी हैं। याचिका में कहा गया है कि वह 15 साल से अधिक समय से पारा शिक्षक के रूप में काम कर रहे हैं। साथ ही, वे शिक्षक पद के लिए योग्यता को पूरा करते हैं। राज्य सरकार को उनकी सेवा स्थायी करनी चाहिए और उन्हें सहायक शिक्षक के पद पर समायोजित किया जाना चाहिए। साथ ही उन्हें समान काम के लिए समान वेतन दिया जाए। सुनवाई के दौरान बड़ी संख्या में पारा शिक्षक कोर्ट परिसर में मौजूद रहे।