Breaking :
||JOB: झारखंड में सीडीपीओ के 64 पदों पर होगी भर्ती, जानिये डिटेल||लातेहार: पेड़ से गिरकर घायल युवक की रिम्स ले जाते समय रास्ते में मौत||बिरसा मुंडा की पुण्यतिथि पर मुख्यमंत्री ने दी श्रद्धांजलि, तस्वीरें||Good News: 12 जून से शुरू होगा बरकाकाना-वाराणसी BDM सवारी गाड़ी का परिचालन||लातेहार: जिले में 10 जून से 15 अक्टूबर तक बालू उठाव पर पूर्ण प्रतिबंध||आदिम जनजातियों के विकास बिना राज्य का विकास संभव नहीं : राज्यपाल||10 दिनों के अंदर झारखंड में प्रवेश करेगा मानसून, भीषण गर्मी से मिलेगी राहत||स्थानीय नीति के विरोध में 10 और 11 जून को झारखंड बंद का आह्वान||गुमला: रांची सेंट जेवियर्स स्कूल के प्रिंसिपल की अनियंत्रित कार ने कई लोगों को रौंदा, तीन महिला समेत चार की मौत, तस्वीरें||पलामू: शीर्ष माओवादी अभिजीत यादव और प्रसाद यादव के ठिकानों पर NIA की छापेमारी

स्वास्थ्य मंत्री ने सरयू राय को भेजा मानहानि का नोटिस, सरयू राय ने मामले को कोर्ट में ले जाने की दी चुनौती

प्रेम पाठक

रांची : स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने अपने अधिवक्ता प्रकाश झा के माध्यम से विधायक सरयू राय को मानहानि का नोटिस भेजा है। उनका कहना है कि सरयू राय ने फर्जी वायरल वीडियो और कथित तौर पर प्रतिबंधित पिस्टल रखने का झूठा आरोप लगाया है। यह दूसरी बार है जब बन्ना गुप्ता ने सरयू राय के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर किया है। इससे पहले उन्होंने प्रोत्साहन राशि के झूठे आरोप के जवाब में सरयू राय के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर किया था, जो न्यायालय में प्रक्रियाधीन है।

बन्ना गुप्ता सरयू राय न्यूज

सरयू राय ने दी चुनौती

स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता के वकील के माध्यम से भेजे गये मानहानि नोटिस पर विधायक सरयू ने बन्ना को चुनौती देते हुए कहा कि यह मेरे द्वारा उठाये गये प्रतिबंधित हथियार रखने का विषय और साथ में अश्लील वीडियो चैट का विषय भी कोर्ट में ले आएं, ताकि दूध का दूध और पानी का पानी हो जाये।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उन्होंने कहा कि राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता के वकील ने मुझे वकालती नोटिस भेजा है। मैं यह नोटिस और भारत सरकार का सर्कुलर संलग्न कर रहा हूं। सर्कुलर के अंतिम कंडिका पढ़कर कोई भी समझ जाएगा कि ग्लॉक पिस्टल का 44 और 21मॉडल दोनों प्रतिबंधित हैं। यह जिसके पास है उससे जब्त कर सरकारी मालखाना में जमा करने का निर्देश है।

उन्होंने कहा कि जहां तक इसके पहले मानहानि मुकदमे की बात है तो मुझे कोर्ट का नोटिस नहीं मिला है। मैं इंतजार कर रहा हूं कि नोटिस आये। मुझे कोर्ट के सामने अपनी बात रखने का मौका मिले ताकि मैं कोर्ट के समक्ष अपनी बात रख सकूं कि ये जो करते, कहते रहते हैं उसके अनुसार इनका कितना मान है और इसमें इनकी कितनी मानहानि हुई है।