Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, मायके वालों ने लगाया हत्या का आरोप||लातेहार: मनिका में सड़क निर्माण स्थल पर उग्रवादियों का हमला, JCB मशीन में लगायी आग||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान

चतरा में भाकपा माओवादी के एरिया कमांडर ने किया पुलिस के सामने सरेंडर

आत्मसमर्पण नीति के तहत जिला प्रशासन ने दिये एक लाख रुपये का चेक

चतरा : जिले के प्रतापपुर व कुंदा थाना क्षेत्र में सक्रिय प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी का सदस्य सह एरिया कमांडर कमलेश यादव ने बुधवार को जिला मुख्यालय के समाहरणालय सभा कक्ष में झारखंड सरकार के आत्मसमर्पण एवं पुनर्वास नीति ” नई दिशा” से प्रभावित होकर जिला प्रशासन के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया।

पुनर्वास नीति के तहत आत्मसमर्पित नक्सली को मौके पर एक लाख रुपया का चेक प्रदान किया गया। आत्मसमर्पण करने के पश्चात कमलेश यादव को जेल भेज दिया गया है। ततपश्चात ओपन जेल में रखने की कवायद शुरू की जाएगी। आत्मसमर्पित नक्सली प्रतापपुर थाना क्षेत्र के चरका गांव का रहनेवाला है।

आपको बताते चलें कि करीब एक माह पूर्व प्रतापपुर थाना क्षेत्र में पुलिस व नक्सलियों के बीच भीषण मुठभेड़ में शीर्ष नक्सली मनोहर गंझू के दस्ते के साथ शामिल था। मुठभेड़ में सीआरपीएफ 190 वीं बटालियन का जवान चितरंजन यादव गोली लगने से गंभीर रूप से घायल हो गए थे। इन्हे तत्काल एयरलिफ्ट कर मेडिका राँची में भर्ती करवाया गया था। जहां इलाज के दौरान शहीद हो गए थे। इसके अलावे कमलेश पर चतरा व पलामू जिला के प्रतापपुर, कुंदा एवं मनातू में 08 नक्सली मामले दर्ज हैं।

दी जायेंगी हर तरह की सुविधायें : उपायुक्त

मौके पर पत्रकारों से बात करते हुए उपायुक्त अबु इमरान ने कहा कि दिग्भ्रमित होकर समाज के मुख्य धारा से भटके हुए लोगों को वापस समाज मे आकर मुख्य धारा से जुड़ने के लिए वे जिला प्रशासन की तरफ से उनका स्वागत करते हैं। साथ ही उन्होंने अन्य नक्सलियों से अपील किया कि वे भी वापस आकर समाज के विकास में अपना महत्वपूर्ण योगदान दें। जिला प्रशासन द्वारा उन्हें हर वो लाभ और सुविधा दिया जाएगा जो राज्य और केंद्र सरकार द्वारा देय है।

समाज के भटके लोग मुख्य धारा से जुड़कर समाज के विकास में योगदान दें : एसपी

वहीं पुलिस अधीक्षक राकेश रंजन ने जिले के प्रतिबंधित संगठन में शामिल लोगो से अपील करते हुए कहा कि अब जंगल से वापस लौटने का समय आ गया है। ऐसे लोग झारखंड सरकार के आत्मसमर्पण एवं पुनर्वास नीति नई दिशा का लाभ उठाएं। वहीं आत्मसमर्पण करने वाले नक्सली कमांडर कमलेश यादव ने बताया कि भूमि विवाद के एक मसले को अपने पक्ष में करने के लिए अन्य लोगों के बहकावे में आकर माओवादी दस्ते में सम्मिलित हो गए थे। उन्हें अपने कृत्य पर पछतावा है। संगठन में शामिल होकर उन्हें अन्य वरिष्ट सदस्यों का शोषण का सामना करना पड़ा। साथ ही पुलिस का डर भी हमेसा से बना रहा। उन्हें अपने परिवार से अलग रहने का भी दुख है।

उन्होंने जिले के अन्य सभी लोग जो प्रतिबंधित दस्ते में शामिल हो गये हैं उन सभी से अपील किया है कि वे भी समाज मे वापस आकर विकास एवं शांति स्थापित करने में अपना योगदान दें। झारखंड सरकार की नई दिशा नीति का लाभ उठाएं और अपने परिवार के साथ सुख चैन से रहें।

मौके पर सीआरपीएफ 190 वीं बटालियन के समादेष्टा मनोज कुमार, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी अविनाश कुमार, पुलिस निरीक्षक लव कुमार, हंटरगंज थाना प्रभारी सनोज चौधरी, प्रतापपुर थाना प्रभारी बिनोद कुमार समेत अन्य उपस्थित थे।