Breaking :
||बंद औद्योगिक इकाइयों को पुनर्जीवित करेगी राज्य सरकार : मुख्यमंत्री||आर्थिक तंगी के कारण कोई भी छात्र उच्च एवं तकनीकी शिक्षा से न रहे वंचित: मुख्यमंत्री||झारखंड में मानसून की आहट, भारी बारिश का अलर्ट जारी||बड़गाईं जमीन घोटाले में ED की बड़ी कार्रवाई, जमीन कारोबारी के ठिकाने से एक करोड़ कैश और गोलियां बरामद||पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सेक्शन अधिकारी समेत दो रिश्वत लेते गिरफ्तार||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री
Saturday, June 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडदक्षिणी छोटानागपुर

PLFI सुप्रीमो दिनेश गोप की निशानदेही पर लातेहार से खरीदा जिप्सी जमीन के अंदर से बरामद

खूंटी : राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने टेरर फंडिंग के मामले में गिरफ्तार उग्रवादी संगठन पीएलएफआई के सुप्रीमो दिनेश गोप से आठ दिनों तक पूछताछ की। पूछताछ में लगातार संगठन के कारनामे उजागर हो रहे हैं। इसी क्रम में बुधवार को जिले के रनिया थाने के गरई स्थित विद्या विहार पब्लिक स्कूल के परिसर में जमीन में दबा कर छिपाया गया एक जिप्सी वाहन बरामद किया गया। अभियान के दौरान बम निरोधक दस्ते के साथ झारखंड जगुआर व एसटीएफ की टीम मौजूद रही।

पुलिस अधीक्षक अमन कुमार ने बुधवार को पत्रकारों को बताया कि दिनेश गोप ने गरई गांव में यह स्कूल बनवाया था। बताया गया कि पहले दिनेश गोप इसी जिप्सी गाड़ी से इलाके में घूमता था। दिनेश गोप की तलाश में जुटी पुलिस टीम को जब उसके उक्त वाहन के बारे में पता चला तो वह वाहन को ठिकाने लगाने की नीयत से करीब आठ साल पहले स्कूल परिसर में जमीन के नीचे दबा दिया गया था। दिनेश गोप की गिरफ्तारी तक रनिया का यह इलाका दिनेश गोप का गढ़ हुआ करता था।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उन्होंने बताया कि दिनेश गोप ने इस जिप्सी वाहन को सालों पहले लातेहार क्षेत्र से खरीदा था दूर से वह जंगल में दिखाई न दे, इसलिए वाहन को गहरे हरे रंग से रंगा गया था। इसी जिप्सी वाहन में दिनेश गोप अपने सशस्त्र दस्ते के साथ इलाके में घूमता था। बताया गया कि करीब आठ-नौ साल पहले संगठन के खिलाफ पुलिस के बढ़ते दबाव के कारण उक्त जिप्सी वाहन को जमीन में गाड़ कर वहीं छिपा दिया गया था।

दिनेश गोप की निशानदेही पर गुरिल्ला टीम द्वारा बीडीडीएस टीम के सहयोग से चलाये गये तलाशी अभियान के दौरान जब उक्त स्थल को चिन्हित कर खुदाई की गयी तो वहां से जिप्सी जर्जर हालत में बरामद हुई। पुलिस सूत्रों के अनुसार गरई गांव में जिस स्कूल के सामने दिनेश गोप की जिप्सी जमीन में दबा मिली, उस स्कूल को दिनेश गोप ने बनवाया था। मालूम हो कि टेरर फंडिंग में दिनेश गोप की गिरफ्तारी के बाद पुलिस को पीएलएफआई संगठन के खिलाफ लगातार सफलता मिल रही है।