Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार युवक की मौत समेत बालूमाथ की चार खबरें||झारखंड: आग लगने की सूचना पर ट्रेन से कूदे यात्री, झाझा-आसनसोल यात्रियों के ऊपर से गुजरी, 12 की मौत||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पहुंचीं रांची, सेंट्रल यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में हुईं शामिल, कहा- दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की राह पर भारत||झारखंड में बिजली हुई महंगी, नयी दरें एक मार्च से होंगी लागू||झारखंड में बड़े पैमाने पर BDO की ट्रांसफर-पोस्टिंग, यहां देखें पूरी लिस्ट||दुमका में फिर पेट्रोल कांड, प्रेमिका और उसकी मां पर पेट्रोल डाल कर प्रेमी ने लगायी आग||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में चार नक्सली ढेर, शव बरामद||UP राज्यसभा चुनाव में BJP के आठों उम्मीदवारों ने की जीत हासिल||माओवादी टॉप कमांडर रविंद्र गंझू के दस्ते का सक्रिय सदस्य ढेचुआ गिरफ्तार||पलामू: तूफान और बारिश ने मचायी तबाही, दो छात्रों की मौत, कहीं गिरे पेड़ तो कहीं ब्लैकआउट
Thursday, February 29, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडदक्षिणी छोटानागपुर

PLFI सुप्रीमो दिनेश गोप की निशानदेही पर लातेहार से खरीदा जिप्सी जमीन के अंदर से बरामद

खूंटी : राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने टेरर फंडिंग के मामले में गिरफ्तार उग्रवादी संगठन पीएलएफआई के सुप्रीमो दिनेश गोप से आठ दिनों तक पूछताछ की। पूछताछ में लगातार संगठन के कारनामे उजागर हो रहे हैं। इसी क्रम में बुधवार को जिले के रनिया थाने के गरई स्थित विद्या विहार पब्लिक स्कूल के परिसर में जमीन में दबा कर छिपाया गया एक जिप्सी वाहन बरामद किया गया। अभियान के दौरान बम निरोधक दस्ते के साथ झारखंड जगुआर व एसटीएफ की टीम मौजूद रही।

पुलिस अधीक्षक अमन कुमार ने बुधवार को पत्रकारों को बताया कि दिनेश गोप ने गरई गांव में यह स्कूल बनवाया था। बताया गया कि पहले दिनेश गोप इसी जिप्सी गाड़ी से इलाके में घूमता था। दिनेश गोप की तलाश में जुटी पुलिस टीम को जब उसके उक्त वाहन के बारे में पता चला तो वह वाहन को ठिकाने लगाने की नीयत से करीब आठ साल पहले स्कूल परिसर में जमीन के नीचे दबा दिया गया था। दिनेश गोप की गिरफ्तारी तक रनिया का यह इलाका दिनेश गोप का गढ़ हुआ करता था।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उन्होंने बताया कि दिनेश गोप ने इस जिप्सी वाहन को सालों पहले लातेहार क्षेत्र से खरीदा था दूर से वह जंगल में दिखाई न दे, इसलिए वाहन को गहरे हरे रंग से रंगा गया था। इसी जिप्सी वाहन में दिनेश गोप अपने सशस्त्र दस्ते के साथ इलाके में घूमता था। बताया गया कि करीब आठ-नौ साल पहले संगठन के खिलाफ पुलिस के बढ़ते दबाव के कारण उक्त जिप्सी वाहन को जमीन में गाड़ कर वहीं छिपा दिया गया था।

दिनेश गोप की निशानदेही पर गुरिल्ला टीम द्वारा बीडीडीएस टीम के सहयोग से चलाये गये तलाशी अभियान के दौरान जब उक्त स्थल को चिन्हित कर खुदाई की गयी तो वहां से जिप्सी जर्जर हालत में बरामद हुई। पुलिस सूत्रों के अनुसार गरई गांव में जिस स्कूल के सामने दिनेश गोप की जिप्सी जमीन में दबा मिली, उस स्कूल को दिनेश गोप ने बनवाया था। मालूम हो कि टेरर फंडिंग में दिनेश गोप की गिरफ्तारी के बाद पुलिस को पीएलएफआई संगठन के खिलाफ लगातार सफलता मिल रही है।