Breaking :
||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर||युवक ने थाने की हाजत में लगायी फां*सी, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप
Sunday, February 25, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

नेताओं के आरोपों पर राज्यपाल की प्रतिक्रिया, कहा- हेमंत सोरेन प्रकरण में राजभवन की कोई भूमिका नहीं

रांची : राज्यपाल सीपी राधाकृष्णन ने पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के इस्तीफे के बाद नेताओं की ओर से राजभवन के खिलाफ लगाये गये आरोपों पर प्रतिक्रिया दी। उन्होंने राजभवन में गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा कि 31 जनवरी को हेमंत सोरेन के साथ जितने लोग आये थे वे सभी जानते हैं कि हेमंत सोरेन ने राजभवन आकर खुद इस्तीफा सौंपा था। मैंने इस्तीफा देने को नहीं कहा था। इस पूरे प्रकरण में राजभवन की कोई भूमिका नहीं है।

राज्यपाल ने कहा कि ईडी ने हेमंत सोरेन को हिरासत में ले लिया था। इस बात का जिक्र खुद हेमंत सोरेन ने अपने इस्तीफे में किया है, जिसमें बताया कि उन्हें ईडी ने हिरासत में ले लिया है इसलिए मैं इस्तीफा देना चाहता हूं। मैंने कहा तो ठीक है मैं मानने को तैयार हूं। राज्यपाल ने बताया कि वे तीन घंटे से तत्कालीन मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन इंतजार कर रहे थे और जब वह आये तो हमने इस्तीफा स्वीकार कर लिया।

उन्होंने कहा कि अगर लोग राजनीतिक लाभ के लिए कुछ करना चाहते हैं, तो हम क्या कर सकते हैं। संवैधानिक प्राधिकारी के रूप में हम यहां संविधान की रक्षा के लिए हैं और जब वे आरोप लगा रहे हैं, तो सबूत कहां है। कुछ दैनिक समाचार पत्रों ने भी लेख लिखे हैं कि ‘’राज्यपाल ने राष्ट्रपति शासन की सिफारिश की थी” हमने ऐसा कभी नहीं किया, लेकिन हमने उस अखबार को नोटिस जारी किया है।

Jharkhand Governor’s reaction News