Breaking :
||लातेहार: बारियातू में ऑटो चालक की गोली मारकर हत्या, विरोध में सड़क जाम||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर
Sunday, February 25, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

राजनीतिक संकट के बीच राज्यपाल रमेश बैस दिल्ली रवाना, हलचल तेज

रांची : झारखंड में सियासी संकट के बीच राज्यपाल रमेश बैस दिल्ली के लिए रवाना हो गए हैं। उनका दिल्ली का दौरा ऐसे समय में हो रहा है जब यूपीए विधायकों ने उनसे एक दिन पहले चुनाव आयोग के फैसले पर सस्पेंस खत्म करने का अनुरोध किया था। राजयपाल के इस दिल्ली दौरे ने झारखंड में राजनीतिक हलचल बढ़ा दी है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

झारखंड मुक्ति मोर्चा, कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल के 10 वरिष्ठ नेताओं और विधायकों ने गुरुवार को राज्यपाल से मुलाकात कर उन्हें पत्र सौंपा। गुरुवार को ही सोरेन सरकार ने झारखंड विधानसभा का एक दिवसीय सत्र 5 सितंबर को बुलाने का फैसला किया है। इसमें सरकार विश्वास मत ला सकती है।

मुख्यमंत्री की सदस्यता को लेकर चुनाव आयोग के फैसले पर राजभवन जल्द कार्रवाई करेगा। राज्यपाल रमेश बैस ने गुरुवार को यूपीए के एक प्रतिनिधिमंडल को यह आश्वासन दिया। यूपीए प्रतिनिधिमंडल ने राजभवन में राज्यपाल से मुलाकात की और भारत निर्वाचन आयोग द्वारा प्राप्त विचारों के संदर्भ में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की ‘ऑफिस ऑफ प्रॉफिट मैटर’ की सदस्यता पर चर्चा की। यूपीए प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल से इस संबंध में जल्द से जल्द स्थिति स्पष्ट करने का आग्रह किया।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

महागठबंधन के प्रतिनिधिमंडल द्वारा राज्यपाल को सौंपे गए ज्ञापन में कहा गया है कि राजभवन एक संवैधानिक कार्यालय है और जनता की नजर में इसका बड़ा सम्मान है। ऐसे में राजभवन से झूठी अफवाह फैलाना राज्य में अराजकता और भ्रम की स्थिति पैदा कर राज्य के प्रशासन और शासन को प्रभावित कर रहा है। यह मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के नेतृत्व वाली लोकतांत्रिक रूप से चुनी गई सरकार को अस्थिर करने के लिए राजनीतिक द्वेष को भी प्रोत्साहित करता है। इसे रोका जाय।