Breaking :
||लातेहार: मनिका में सड़क निर्माण स्थल पर उग्रवादियों का हमला, JCB मशीन में लगायी आग||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव

राज्यपाल ने प्रदेश की कानून व्यवस्था पर जताई चिंता, स्थानीय पुलिस की भूमिका की जांच के आदेश

रांची: झारखंड के राज्यपाल रमेश बैस ने दुमका के जरूवाडीह की अंकिता कुमारी सिंह की घटना और मौत को बेहद दुखद बताते हुए कहा है कि जिस लड़की ने अभी तक पूरी दुनिया को देखा भी नहीं है, उसका अंत बेहद दर्दनाक है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

राज्यपाल ने शोक संतप्त परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की। उन्होंने अंकिता के पिता से बात की और उनसे पूरी घटना के बारे में जानकारी ली और उन्हें व्यक्तिगत तौर पर सांत्वना दी।

राज्यपाल ने कहा कि ऐसी जघन्य और दर्दनाक घटना राज्य के लिए शर्मनाक है. ऐसी घटनाएं राज्य की छवि पर प्रतिकूल प्रभाव डालती हैं। राज्य के लोग घर, दुकान, मॉल, सड़क पर कहीं भी सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि पूर्व में भी पुलिस महानिदेशक को राज्य की कानून व्यवस्था पर चिंता व्यक्त करते हुए इसे प्रभावी और सही बनाने के निर्देश दिए गए थे। लेकिन इसका कोई सकारात्मक परिणाम नहीं दिख रहा है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

उन्होंने आज पुलिस महानिदेशक से टेलीफोन पर बात की और अंकिता की मौत के मामले में स्थानीय पुलिस की भूमिका की जांच के आदेश दिए।

राज्यपाल ने घटना की फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई करने की बात कही। राज्यपाल ने पीड़ित परिवार को अपने विवेकाधीन अनुदान से तत्काल दो लाख रुपये देने की भी घोषणा की।