Breaking :
||चतरा समेत इन चार लोकसभा सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशियों को विरोधियों से अधिक अपनों से खतरा||झारखंड: पहले चरण के चुनाव में पलामू समेत इन चार लोकसभा सीटों पर युवा मतदाता निभायेंगे निर्णायक भूमिका||आय से अधिक संपत्ति मामले में निलंबित चीफ इंजीनियर वीरेंद्र राम के पिता और पत्नी के खिलाफ कुर्की वारंट का इश्तेहार जारी||पलामू लोकसभा: शीर्ष माओवादी कमांडर रहे कामेश्वर बैठा समेत तीन उम्मीदवारों ने किया नामांकन||पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की जमानत याचिका पर कल होगी सुनवाई||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, शादी समारोह से लौट रही कार पेड़ से टकरायी, पति की मौत, पत्नी और पोते की हालत नाजुक||लातेहार: सिरफिरे युवक ने दो महिलाओं समेत पिता को कुल्हाड़ी से काट डाला, गिरफ्तार||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये
Wednesday, April 24, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

राज्यपाल ने प्रदेश की कानून व्यवस्था पर जताई चिंता, स्थानीय पुलिस की भूमिका की जांच के आदेश

रांची: झारखंड के राज्यपाल रमेश बैस ने दुमका के जरूवाडीह की अंकिता कुमारी सिंह की घटना और मौत को बेहद दुखद बताते हुए कहा है कि जिस लड़की ने अभी तक पूरी दुनिया को देखा भी नहीं है, उसका अंत बेहद दर्दनाक है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

राज्यपाल ने शोक संतप्त परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की। उन्होंने अंकिता के पिता से बात की और उनसे पूरी घटना के बारे में जानकारी ली और उन्हें व्यक्तिगत तौर पर सांत्वना दी।

राज्यपाल ने कहा कि ऐसी जघन्य और दर्दनाक घटना राज्य के लिए शर्मनाक है. ऐसी घटनाएं राज्य की छवि पर प्रतिकूल प्रभाव डालती हैं। राज्य के लोग घर, दुकान, मॉल, सड़क पर कहीं भी सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि पूर्व में भी पुलिस महानिदेशक को राज्य की कानून व्यवस्था पर चिंता व्यक्त करते हुए इसे प्रभावी और सही बनाने के निर्देश दिए गए थे। लेकिन इसका कोई सकारात्मक परिणाम नहीं दिख रहा है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

उन्होंने आज पुलिस महानिदेशक से टेलीफोन पर बात की और अंकिता की मौत के मामले में स्थानीय पुलिस की भूमिका की जांच के आदेश दिए।

राज्यपाल ने घटना की फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई करने की बात कही। राज्यपाल ने पीड़ित परिवार को अपने विवेकाधीन अनुदान से तत्काल दो लाख रुपये देने की भी घोषणा की।