Breaking :
||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज||पलामू: संदिग्ध हालत में स्कूल में फंदे से लटका मिला प्रधानाध्यापक का शव, हत्या की आशंका||लातेहार: तालाब में डूबे बच्चे का 24 घंटे बाद भी नहीं मिला शव, तलाश के लिए पहुंची NDRF की टीम||मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने आलमगीर आलम से लिए सभी विभाग वापस||पलामू: कोयला से भरा ट्रक और बीड़ी पत्ता लदा ऑटो जब्त, पांच गिरफ्तार, दो लातेहार के निवासी||लातेहार: नहाने के दौरान तालाब में डूबने से दस वर्षीय बच्चे की मौत, शव की तलाश में जुटे ग्रामीण
Thursday, June 13, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

10+2 स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर सरकार गंभीर : जगरनाथ महतो

रांची : मंगलवार को सदन में झामुमो विधायक मथुरा प्रसाद महतो के सवाल के जवाब में शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने कहा कि सरकार 10 प्लस 2 स्कूलों के शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर गंभीर है। सरकार ने इसे लेकर एक कमेटी बनायी थी। कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर मामला स्थायी समिति को भेजा गया है। वित्त विभाग और विधि विभाग से राय लेने के बाद नियुक्ति प्रक्रिया शुरू की जायेगी।

विधायक मथुरा महतो ने सवाल उठाया था कि राज्य के 10+2 स्कूलों में राजनीति विज्ञान, समाजशास्त्र, जनजातीय और क्षेत्रीय भाषाओं, मनोविज्ञान, दर्शनशास्त्र और मानवशास्त्र विषयों के शिक्षकों की भारी कमी है। इससे विद्यार्थियों को शिक्षा प्राप्त करने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

विधायक जेपी पटेल के अल्प सूचना प्रश्न के जवाब में शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने कहा कि पिछली सरकार ने सहायता प्राप्त कॉलेज को फंड देना बंद कर दिया था। हेमंत सरकार ने इसे बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि सरकार ने एक कमेटी भी बनायी है। रिपोर्ट मिलने पर आगे की कार्रवाई की जायेगी।

विधायक पटेल ने सवाल किया था कि 26 जून 2022 को शिक्षा विभाग ने महंगाई को देखते हुए झारखंड राज्य वित्तीय संस्थान (अनुदान) नियमावली, 2015 में संशोधन का निर्देश दिया था, लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। स्थिति यह है कि कार्यरत कर्मचारियों के सामने घोर आर्थिक संकट खड़ा हो गया है।

झारखंड विधानसभा बजट सत्र