Breaking :
||रांची में बाइक सवार बदमाशों ने पति-पत्नी को मारी गोली, दोनों की मौत||TSPC के जोनल कमांडर ने किया बड़ा खुलासा, झारखंड में हिंसा फैलाने के लिए खरीद रहा था विदेशी हथियार||भारत-इंग्लैंड टेस्ट मैच को लेकर बल्लेबाज शुबमन गिल ने पत्रकारों से कहा- रांची में ही सीरीज जीतने के लिए हम तैयार||पलामू: बच्चों को आशीर्वाद देने निकले किन्नरों से मारपीट, आक्रोश||झारखंड: प्रेमी ने शादी से किया इंकार तो प्रेमिका ने दे दी जान||गढ़वा: JJMP के उग्रवादियों ने पुल निर्माण स्थल पर मचाया उत्पात, मशीनों में की तोड़फोड़, मजदूरों से मारपीट||झारखंड विधानसभा का बजट सत्र 23 फरवरी से, स्पीकर ने की उच्च स्तरीय बैठक||विधायक भानु प्रताप शाही एससी-एसटी एक्ट में बरी, चार लोगों को छह-छह माह कारावास की सजा||रांची पहुंची भारत और इंग्लैंड की टीमें, पारंपरिक अंदाज में हुआ स्वागत||लातेहार: ईंट भट्ठा पर फायरिंग कर अपराधियों ने फैलायी दहशत, कर्मियों को पीटा, संचालक को दी चेतावनी
Thursday, February 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

10+2 स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर सरकार गंभीर : जगरनाथ महतो

रांची : मंगलवार को सदन में झामुमो विधायक मथुरा प्रसाद महतो के सवाल के जवाब में शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने कहा कि सरकार 10 प्लस 2 स्कूलों के शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर गंभीर है। सरकार ने इसे लेकर एक कमेटी बनायी थी। कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर मामला स्थायी समिति को भेजा गया है। वित्त विभाग और विधि विभाग से राय लेने के बाद नियुक्ति प्रक्रिया शुरू की जायेगी।

विधायक मथुरा महतो ने सवाल उठाया था कि राज्य के 10+2 स्कूलों में राजनीति विज्ञान, समाजशास्त्र, जनजातीय और क्षेत्रीय भाषाओं, मनोविज्ञान, दर्शनशास्त्र और मानवशास्त्र विषयों के शिक्षकों की भारी कमी है। इससे विद्यार्थियों को शिक्षा प्राप्त करने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

विधायक जेपी पटेल के अल्प सूचना प्रश्न के जवाब में शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने कहा कि पिछली सरकार ने सहायता प्राप्त कॉलेज को फंड देना बंद कर दिया था। हेमंत सरकार ने इसे बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि सरकार ने एक कमेटी भी बनायी है। रिपोर्ट मिलने पर आगे की कार्रवाई की जायेगी।

विधायक पटेल ने सवाल किया था कि 26 जून 2022 को शिक्षा विभाग ने महंगाई को देखते हुए झारखंड राज्य वित्तीय संस्थान (अनुदान) नियमावली, 2015 में संशोधन का निर्देश दिया था, लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। स्थिति यह है कि कार्यरत कर्मचारियों के सामने घोर आर्थिक संकट खड़ा हो गया है।

झारखंड विधानसभा बजट सत्र