Breaking :
||पलामू में हल्का कर्मचारी रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||पाकुड़: मूर्ति विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने जुलूस पर किया पथराव||हजारीबाग: पुआल में लगी आग, दो मासूम बच्चे जिंदा जले, पुलिस जांच में जुटी||चाईबासा: PLFI के तीन उग्रवादी गिरफ्तार, AK-47 समेत अन्य हथियार बरामद||लातेहार में PLFI के दो उग्रवादी हथियार के साथ गिरफ्तार, ठेकेदारों को फोन पर देते थे धमकी||पलामू: JJMP के सब जोनल कमांडर ने किया सरेंडर, खोले कई चौंकाने वाले राज||लातेहार: अनियंत्रित बोलेरो ने खड़े ट्रक में मारी टक्कर, दो युवकों की मौत, चार की हालत नाजुक||हेमंत सरकार का निर्णय, सरकारी कार्यक्रमों में ‘जोहार’ शब्द से अभिवादन करना अनिवार्य||सरकार खतियान आधारित स्थानीयता बिल फिर राज्यपाल को भेजेगी : JMM||राज्य स्तरीय झांकी में पलामू किला को मिला पहला स्थान, राज्यपाल ने किया पुरस्कृत

भारत सरकार ने राष्ट्रीय ध्वज संहिता में किये बड़े बदलाव, अब दिन-रात फहरा सकते हैं तिरंगा

नई दिल्ली : सरकार ने देश के ध्वज संहिता में बदलाव किया है, जिसके तहत अब दिन और रात दोनों समय तिरंगा फहराने की अनुमति होगी। साथ ही अब पॉलिएस्टर और मशीन से बने राष्ट्रीय ध्वज का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

आजादी के अमृत महोत्सव के तहत सरकार 13 से 15 अगस्त तक ‘हर घर तिरंगा’ कार्यक्रम शुरू करने जा रही है, जिसे देखते हुए सरकार ने फ्लैग कोड में बदलाव किया है। केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने सभी केंद्रीय मंत्रालयों और विभागों के सचिवों को लिखे पत्र में कहा कि भारतीय राष्ट्रीय ध्वज का प्रदर्शन, फहराना और उपयोग भारतीय ध्वज संहिता, 2002 और राष्ट्रीय गौरव के अपमान की रोकथाम अधिनियम, 1971 के तहत आता है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

भारत की ध्वज संहिता, 2002 को दिनांक 20 जुलाई, 2022 के एक आदेश द्वारा संशोधित किया गया है और अब भारतीय ध्वज संहिता, 2002 के भाग II के पैरा 2.2 के खंड (11) को अब इस प्रकार पढ़ा जाएगा। जहां झंडा खुले में प्रदर्शित होता है इसे किसी नागरिक के निवास पर ले जाया या प्रदर्शित किया जाता है, इसे दिन-रात फहराया जा सकता है।

पहले सूर्योदय से सूर्यास्त तक फहराने की थी अनुमति

पहले सूर्योदय से सूर्यास्त तक ही तिरंगा फहराने की अनुमति थी। इसी तरह, ध्वज संहिता के एक अन्य प्रावधान में संशोधन किया गया था कि राष्ट्रीय ध्वज हाथ से काता और हाथ से बुना हुआ या मशीन से बना होगा। इसे कॉटन/पॉलिएस्टर/ऊन/रेशम खादी से बनाया जाएगा। पहले मशीन से बने और पॉलिएस्टर से बने राष्ट्रीय झंडों के इस्तेमाल की अनुमति नहीं थी।