Breaking :
||लातेहार में PLFI के दो उग्रवादी हथियार के साथ गिरफ्तार, ठेकेदारों को फोन पर देते थे धमकी||पलामू: JJMP के सब जोनल कमांडर ने किया सरेंडर, खोले कई चौंकाने वाले राज||लातेहार: अनियंत्रित बोलेरो ने खड़े ट्रक में मारी टक्कर, दो युवकों की मौत, चार की हालत नाजुक||हेमंत सरकार का निर्णय, सरकारी कार्यक्रमों में ‘जोहार’ शब्द से अभिवादन करना अनिवार्य||सरकार खतियान आधारित स्थानीयता बिल फिर राज्यपाल को भेजेगी : JMM||राज्य स्तरीय झांकी में पलामू किला को मिला पहला स्थान, राज्यपाल ने किया पुरस्कृत||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा

सरकार ने पलामू के तीन बड़े माओवादियों पर की इनाम की घोषणा, गिरफ्तारी के प्रयास में जुटी पुलिस

रांची : राज्य सरकार ने पलामू के तीन माओवादियों पर इनाम की घोषणा की है इनमें छतरपुर के दो जोनल कमांडर और विश्रामपुर के एक सब-जोनल कमांडर के नाम शामिल हैं। अभिजीत यादव उर्फ सोनू यादव और गोदराई यादव उर्फ संजय यादव के नाम 10-10 लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया है। ये दोनों माओवादी संगठन में जोनल कमांडर के पद पर हैं। जबकि नक्सली रवींद्र मेहता उर्फ छोटा व्यास पर 5 लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया है।

पलामू की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

अभिजीत यादव उर्फ सोनू यादव पलामू जिले के छतरपुर थाना क्षेत्र के गांव तिलैया का रहने वाला है। जबकि गोदराई यादव उर्फ संजय यादव देवगन गांव निवासी है। दोनों पर 10-10 लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया है। दोनों माओवादी संगठन में जोनल कमांडर के पद पर हैं, जबकि एक नक्सली रवींद्र मेहता उर्फ छोटा व्यास विश्रामपुर प्रखंड के कौड़िया गांव का रहने वाला है, जिस पर पांच लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया है। रवींद्र मेहता सब जोनल कमांडर के पद पर हैं। तीनों काफी समय से फरार चल रहे हैं। हालांकि उनकी गिरफ्तारी के लिए पलामू पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है।

जानकारी के मुताबिक, अभिजीत यादव और गोदराई यादव माओवादी संगठन के पहले सब-जोनल कमांडर थे। संगठन ने उन्हें जोनल कमांडर बनाया है, जबकि रवींद्र मेहता सहायक कमांडर था, जिसे सब-जोनल कमांडर बनाया गया है।

मालूम हो कि पलामू लंबे समय से माओवादियों का सुरक्षित ठिकाना रहा है। पलामू में तीन माओवादियों के फिर से दहशत फैलाने की कोशिश की सूचना है। ऐसे में पलामू पुलिस उनपर नकेल लगाने की पूरी कोशिश कर रही है। इन लोगों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है। हाल के दिनों में पलामू पुलिस ने कई बड़े माओवादियों को पकड़ा है।