Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

लातेहार: मनिका के चार अभ्यर्थी पंचायत सचिव परीक्षा में सफल, प्रतिनिधियों ने जतायी खुशी

मनिका के चार अभ्यर्थी सफल

कौशल किशोर पांडेय/मनिका

पिता के साया उठने बाद नहीं था कोई सहारा, मेहनत से मिली मंजिल

लातेहार : सफलता के शीर्ष पर हमेशा एक जगह होती है, कोई भी शीर्ष पर पहुंच सकता है, बशर्ते काम सच्ची लगन और ईमानदारी से किया जाये। इसी लगन व निष्ठा के चलते मनिका प्रखंड के चार अभ्यर्थी अनु कुमारी पिता उमेश पाठक, मनिका, सत्येंद्र उरांव पिता स्व करीमन उरांव, औराटांड़ जुंगुर, मनिका, दीपक यादव पिता स्व कामेश्वर यादव, कुरुंद, मनिका और उत्पल कुमार उर्फ बिट्टू पिता रामप्रसाद सिंह, मनिका पंचायत सेवक की परीक्षा में सफलता अर्जित कर प्रखंड का नाम रौशन किया है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

ज्ञात हो कि जेएसएससी आयोजित संयुक्त इंटरमीडिएट स्तरीय परीक्षा 2016 के अंतर्गत पंचायत सचिव एवं निम्न वर्गीय लिपिक बहाली में उक्त अभ्यर्थियों ने परीक्षा दी थी जिसमे चारो अभ्यर्थी अंतिम रूप से सफल हुए। प्रारंभिक परीक्षा पीटी में पास होने के बाद मुख्य परीक्षा लिया गया। उसके बाद सीट से 33 प्रतिशत अधिक रिजल्ट के साथ मेरिट लिस्ट जारी की गयी। अभ्यर्थियों का वेरिफिकेशन के पश्चात अंतिम रूप से रिजल्ट जारी की गयी है।

बताते चलें कि सत्येंद्र उरांव और दीपक यादव के सिर से पिता का साया 5-6 साल पहले उठ गया था। दीपक ने बताया कि पिताजी के निधन के बाद काफी तकलीफ सहन किया हूँ। घर की माली हालत ठीक नहीं थी इसके बावजूद मैने पढ़ाई नहीं छोड़ी। बड़े भाई धीरेंद्र कुमार यादव ने पिता की भांति गाइड किया। सफलता का श्रेय अपने परिवार और शिक्षकों को देना चाहूंगा।

इसे भी पढ़ें :- JOB: नेतरहाट आवासीय विद्यालय में नॉन टीचिंग स्टाफ के 12 पदों पर भर्ती, 25 फरवरी तक कर सकते हैं आवेदन

वहीं सतेंद्र उरांव ने बताया कि मेरे पिताजी का देहांत 2015 में हो जाने के बाद मेरा पढ़ाई एकदम रुक गया था। किसी दोस्त के माध्यम से पता चला कि संदीप सर कंपटीशन का तैयारी करवाते हैं। फिर मैंने भी उनका क्लास ज्वाइन किया और संदीप सर के माध्यम से प्रत्येक दिन तैयारी करते रहे यहां तक की सर ने निशुल्क तैयारी करवाए और इसी का परिणाम मुझे प्राप्त हुआ। मैं प्रतिदिन 8 से 10 घंटा अध्ययन करता था और आज इसी का परिणाम आया।

इसे भी पढ़ें :- लातेहार: हेरहंज पहुंचा आदमखोर तेंदुआ, दो जानवरों का किया शिकार, एक की मौत, एक घायल

वहीं अनु ने भी सफलता का श्रेय संदीप सर को देती है। उन्होंने कहा कि पंचायत सचिव में चयन का श्रेय मेरे घर का पूरे परिवार,दोस्तों और मेरे शिक्षक संदीप सर को जाता है। वहीं उत्पल ने भी सफलता का श्रेय अपने माता पिता और शिक्षक को दिया है।

क्या कहते हैं निःशुल्क कोचिंग के अध्यापक

कोचिंग सेंटर मनिका के संदीप पासवान ने 2014 से निशुल्क रूप से गरीब विद्यार्थियों को कोचिंग देने का काम कर रहे हैं। पेशे से सरकारी अध्यापक संदीप ने बताया कि मनिका जैसे पिछड़े क्षेत्र में कंपटीशन तैयारी के नाम पर लोगों में विश्वास नहीं होती थी। लेकिन आज हमारे यहां से सरकारी नौकरी पाने में सफल हो रहे हैं। जिससे मैं बहुत खुश हूं और आगे का सामाजिक कार्य इसी तरह से करता रहूंगा।

मनिका चार अभ्यर्थी सफल