Breaking :
||भीषण गर्मी की चपेट में झारखंड, सूरज उगल रहा आग, विशेषज्ञों ने बताये बचाव के उपाय||लातेहार: मनिका स्थित कल्याण गुरुकुल में युवती की संदिग्ध मौत, जांच में जुटी पुलिस||रांची के रातू रोड इलाके से गुजर रहे हैं तो हो जायें सावधान! बाइक सवार बदमाशों की है आप पर नजर||गढ़वा में सैकड़ों चमगादड़ों की दर्दनाक मौत, भीषण गर्मी से मौत की आशंका||लातेहार: अमझरिया घाटी की खाई में गिरा ट्रक, चालक और खलासी की मौत||मैक्लुस्कीगंज में ऑप्टिकल फाइबर बिछाने के काम में लगे कंटेनर में नक्सलियों ने लगायी आग, जिंदा जला मजदूर||फल खरीदने गया पति, प्रेमी के साथ भाग गयी पत्नी||पलामू में 47.5 डिग्री पहुंचा पारा, मई महीने का रिकॉर्ड टूटा, दशक का सर्वाधिक अधिकतम तापमान||DJ सैंडी मर्डर केस : हत्या और मारपीट का मामला दर्ज, बार संचालक व बाउंसर समेत 14 गिरफ्तार||झारखंड की चर्चा खूबसूरत पहाड़ों की वजह से नहीं बल्कि नोटों के पहाड़ की वजह से हो रही : मोदी
Thursday, May 30, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

शिव गुरु चर्चा के संस्थापक श्री हरीन्द्रानंद का निधन, सुबह 11 बजे तक कर सकेंगे अंतिम दर्शन

रांची : करोड़ों परिवारों में शिवगुरु की महिमा और शिव शिष्य परिवार के पितामह की महिमा करने वाले स्वामी हरिंद्रानंद जी नहीं रहे। रविवार की अहले सुबह तीन बजे उनकी मौत हो गई। वह पिछले कुछ दिनों से हृदय रोग से पीड़ित थे। दिल का दौरा पड़ने के बाद, उन्हें पारस अस्पताल, एचईसी, रांची में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था। बेहतर इलाज के लिए उन्हें पल्स अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उन्होंने अंतिम सांस ली।

स्वामी हरिंद्रानंद जी बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी रह चुके हैं। बचपन से ही अध्यात्म में रुचि होने के कारण वे सन्यास लेने के बाद पूरी तरह धर्म और अध्यात्म के प्रति समर्पित थे।

मिली जानकारी के मुताबिक उनके दिल में ब्लॉकेज पाया गया। उसे एंजियोग्राफी के लिए बाहर ले जाने की तैयारी चल रही थी, लेकिन उससे पहले ही उसकी मौत हो गई।

शिव शिष्य परिवार के पिता स्वामी हरिंद्रानंद जी मूल रूप से सीवान जिले के रहने वाले थे। उनका जन्म 1948 में कार्तिक कृष्ण पक्ष चतुर्दशी को हुआ था। वह तत्कालीन छपरा जिले (अब सीवान) से पांच किलोमीटर दूर स्थित अमलोरी गांव के रहने वाले थे। उन्होंने शिव गुरु के संदेश को करोड़ों लोगों तक पहुंचाया। बता दें कि उनके बड़े बेटे अर्चित आनंद झारखंड में फेंसिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं।

सुबह 11 बजे तक किया जा सकता है अंतिम दर्शन

उनके ज्येष्ठ पुत्र अर्चित आनंद ने एक बयान जारी कर कहा कि श्री हरिन्द्र नंद जी का पार्थिव शरीर उनके आवास ए-17, एसईसी-2, एचईसी, धुरवा, (पुरानी सभा के पीछे, गेट नंबर -1) रांची में सुबह 11 बजे से शाम तक है। इसे शाम पांच बजे तक जनता के दर्शन के लिए रखा गया है। सोमवार को सुबह छह बजे से 11 बजे तक लोग अंतिम दर्शन कर सकेंगे।