Breaking :
||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन||हेमंत ने जमशेदपुर वासियों को दी सौगात, जुगसलाई ओवरब्रिज का किया उद्घाटन||जमशेदपुर-कोलकाता विमान सेवा का शुभारंभ, मुख्यमंत्री ने कहा- सभी जिलों को हवाई सेवा से जोड़ने की तैयार की जा रही कार्ययोजना||पलामू में हल्का कर्मचारी रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||पाकुड़: मूर्ति विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने जुलूस पर किया पथराव||हजारीबाग: पुआल में लगी आग, दो मासूम बच्चे जिंदा जले, पुलिस जांच में जुटी||चाईबासा: PLFI के तीन उग्रवादी गिरफ्तार, AK-47 समेत अन्य हथियार बरामद

शिव गुरु चर्चा के संस्थापक श्री हरीन्द्रानंद का निधन, सुबह 11 बजे तक कर सकेंगे अंतिम दर्शन

रांची : करोड़ों परिवारों में शिवगुरु की महिमा और शिव शिष्य परिवार के पितामह की महिमा करने वाले स्वामी हरिंद्रानंद जी नहीं रहे। रविवार की अहले सुबह तीन बजे उनकी मौत हो गई। वह पिछले कुछ दिनों से हृदय रोग से पीड़ित थे। दिल का दौरा पड़ने के बाद, उन्हें पारस अस्पताल, एचईसी, रांची में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था। बेहतर इलाज के लिए उन्हें पल्स अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उन्होंने अंतिम सांस ली।

स्वामी हरिंद्रानंद जी बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी रह चुके हैं। बचपन से ही अध्यात्म में रुचि होने के कारण वे सन्यास लेने के बाद पूरी तरह धर्म और अध्यात्म के प्रति समर्पित थे।

मिली जानकारी के मुताबिक उनके दिल में ब्लॉकेज पाया गया। उसे एंजियोग्राफी के लिए बाहर ले जाने की तैयारी चल रही थी, लेकिन उससे पहले ही उसकी मौत हो गई।

शिव शिष्य परिवार के पिता स्वामी हरिंद्रानंद जी मूल रूप से सीवान जिले के रहने वाले थे। उनका जन्म 1948 में कार्तिक कृष्ण पक्ष चतुर्दशी को हुआ था। वह तत्कालीन छपरा जिले (अब सीवान) से पांच किलोमीटर दूर स्थित अमलोरी गांव के रहने वाले थे। उन्होंने शिव गुरु के संदेश को करोड़ों लोगों तक पहुंचाया। बता दें कि उनके बड़े बेटे अर्चित आनंद झारखंड में फेंसिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं।

सुबह 11 बजे तक किया जा सकता है अंतिम दर्शन

उनके ज्येष्ठ पुत्र अर्चित आनंद ने एक बयान जारी कर कहा कि श्री हरिन्द्र नंद जी का पार्थिव शरीर उनके आवास ए-17, एसईसी-2, एचईसी, धुरवा, (पुरानी सभा के पीछे, गेट नंबर -1) रांची में सुबह 11 बजे से शाम तक है। इसे शाम पांच बजे तक जनता के दर्शन के लिए रखा गया है। सोमवार को सुबह छह बजे से 11 बजे तक लोग अंतिम दर्शन कर सकेंगे।