Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

झारखंड के दिग्गज राजनेता डॉ. सबा अहमद का निधन, मुख्यमंत्री ने जताया दुःख

धनबाद : एकीकृत बिहार में मंत्री रहे झारखंड के दिग्गज राजनेता डॉ. सबा अहमद का शनिवार सुबह निधन हो गया। उन्होंने नई दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल में सुबह पांच बजे अंतिम सांस ली। लंबे समय से बीमार चल रही सबा अहमद को बीते दिनों इलाज के लिए दिल्ली ले जाया गया था। परिजनों के मुताबिक रविवार को उनका पार्थिव शरीर गिरिडीह के पचंबा स्थित उनके आवास लाया जाएगा। यहीं पर शव सुपुर्द-ए-खाक किया जाएगा।

मालूम हो कि डॉ. अहमद लंबे समय तक झारखंड-बिहार की राजनीति में सक्रिय रहे। वे भाजपा में विलय तक झारखंड विकास मोर्चा की राजनीति कर रहे थे। जेवीएम के भाजपा में विलय के बाद पार्टी की केंद्रीय अध्यक्ष रहे डॉ. सबा अहमद ने अपने लिए नए राजनीतिक विकल्प तलाशने शुरू कर दिए, लेकिन कोरोना काल में उनके स्वास्थ्य में लगातार गिरावट आती गयी और फिर उन्होंने सक्रिय राजनीति छोड़ दी। अस्पताल में भर्ती होने के बाद से उनके समर्थक लगातार उनके बेहतर स्वास्थ्य की दुआ कर रहे थे।

डॉ. सबा अहमद अविभाजित बिहार के दौरान लालू प्रसाद यादव और फिर राबड़ी देवी की सरकार में मंत्री रहे। वे संयुक्त बिहार में उच्च शिक्षा एवं कारागार मंत्री थे। झारखंड विधानसभा में डिप्टी स्पीकर और कार्यकारी अध्यक्ष की कुर्सी भी संभाला था। उन्होंने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत झामुमो से की थी। उनके पिता डॉ. आई अहमद गिरिडीह से कांग्रेस सांसद रह चुके थे। सबा अहमद ने तीन बार टुंडी विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया। वह टुंडी जैसी सीट से भी राजद के टिकट पर चुनाव जीते थे।