Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में बोलेरो ने बाइक में पीछे से मारी टक्कर, दो IRB जवान समेत चार घायल, दो रिम्स रेफर, सड़क जाम||पलामू में ट्रक ने झामुमो नेता के रिश्तेदार को रौंदा||झारखंड में बड़ा सड़क हादसा, तीन की मौत, सात घायल||झारखंड में लोकसभा चुनाव के छठे चरण में 65.40 फीसदी वोटिंग, गिरिडीह और धनबाद में महिलाएं तो रांची और जमशेदपुर में पुरुषों ने मारी बाजी||बड़ी घटना को अंजाम देने आये अमन साहू गिरोह के चार शूटर चढ़े पुलिस के हत्थे||प्रेमी ने शादी का झांसा देकर किया यौन शोषण, धोखा बर्दाश्त नहीं कर पायी प्रेमिका, की जान देने की कोशिश, मामला दर्ज||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर 62.13 फीसदी वोटिंग, सबसे अधिक जमशेदपुर, सबसे कम रांची में मतदान||झारखंड में कल से दिखेगा चक्रवाती तूफान ‘रेमल’ का असर, लातेहार, गढ़वा, पलामू व चतरा जिले में भी असर||लातेहार: दुकान में चोरी करने आये तीन चोर आग में झुलसे, एक की मौत, दो गंभीर||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर वोटिंग कल, 82 लाख मतदाता करेंगे 93 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला
Monday, May 27, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडललातेहारहेरहंज

लातेहार: पूर्व माओवादी ने थाने में आवेदन देकर ग्रामीणों के आरोपों को बताया निराधार

Herhanj Latehar Latest News

प्रदीप यादव/हेरहंज

लातेहार : जिले के हेरहंज प्रखंड के बिदिर गांव निवासी पूर्व नक्सली बासुदेव गंझू उर्फ गोपाल गंझू ने थाने में जवाबी आवेदन दिया है। आवेदन में लिखा है कि गांव के रामदेव भुइयां, रामेश्वर भुइयां, कजरू भुइयां, भिनसारी भुइयां, करमा भुइयां व कई अन्य ग्रामीणों द्वारा मुझ पर गलत आरोप लगाते हुए थाने में दर्ज करायी गयी शिकायत निराधार है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

आवेदन में लिखा है कि मैंने किसी भी ग्रामीण के साथ न तो गाली-गलौज की है और न ही किसी को जान से मारने की धमकी दी है। यह आरोप निराधार है। यहां तक कि गांव के ही कुछ लोगों ने मेरे पुत्र सकलदीप गंझू की हत्या कर शव को कुएं में फेंक दिया था। हेरहंज थाना पुलिस ने जांच कर कुछ युवकों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

इसे भी पढ़ें :- लातेहार: पूर्व माओवादी की दबंगई से परेशान ग्रामीणों ने की बैठक, लगायी न्याय की गुहार

आवेदन में लिखा है कि मेरे बेटे की हत्या करने वाले लोगों के परिजन व कुछ ग्रामीण मुझे भगाने की साजिश कर रहे हैं, जो सरासर गलत है। मैं नक्सली संगठन से अलग होकर सरकार की पुनर्वास नीति का पालन कर रहा हूं। मैंने 23 जनवरी 2019 को आत्मसमर्पण कर दिया था और 08 नवंबर 2021 को जेल से बाहर आने के बाद मैं अपने घर में रह रहा हूं। ना तो मैंने कभी किसी को गाली दी है और ना ही किसी को जान से मारने की धमकी दी है। ये आरोप निराधार हैं। मुझे बदनाम करने के लिए यह साजिश रची जा रही है।

Herhanj Latehar Latest News