Breaking :
||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम||सतबरवा प्रखंड के रैयतों ने सांसद से की मुलाकात, उचित मुआवजा दिलाने की मांग||पलामू में तीन अलग-अलग सड़क हादसों में तीन की मौत, नेतरहाट घूमने जा रहा एक पर्यटक भी शामिल||केंद्रीय मंत्री शिवराज व असम के मुख्यमंत्री हिमंता झारखंड विधान सभा चुनाव में भाजपा का करेंगे बेड़ापार||झारखंड में पांच नक्सली ढेर, एक महिला नक्सली समेत दो गिरफ्तार, हथियार बरामद||अब स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग स्कूली बच्चों को नशीले पदार्थो के सेवन से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में करेगा जागरूक||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर
Tuesday, June 18, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामूपलामू प्रमंडल

पलामू में नकली नोट के साथ पांच गिरफ्तार, नेपाल और कोलकाता से जुड़े हैं तार

50 हजार देने पर मिलते हैं एक लाख रुपये के नकली नोट

पलामू : जिले में नकली नोट चलाने वाला एक गिरोह सक्रिय है। पुलिस ने ऐसे गिरोह के पांच सदस्यों को गिरफ्तार किया है। सभी को रेलवे स्टेशन जाने वाली सड़क पर रेड़मा ओवरब्रिज के नीचे चाय दुकान से हिरासत में लिया गया है। सूचना है कि इनके पास से 29 हजार रुपये के नकली नोट बरामद किये गये हैं। हिरासत में लिए गये लोगों में दो मोहम्मदगंज, एक तरहसी और दो मेदिनीनगर शहरी क्षेत्र के हैं। पुलिस सभी आरोपियों से कई स्तरों पर पूछताछ कर रही है। संभावना है कि जल्द ही इस मामले का खुलासा हो जायेगा।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि शहर में जाली नोट चलाने वाला गिरोह घुस आया है। पुलिस ने अपनी सक्रियता बढ़ा दी और जांच शुरू कर दी। इसी क्रम में संदेह के आधार पर रेड़मा ओवरब्रिज के नीचे एक चाय दुकान में कुछ लोगों को चाय पीते हुए पकड़ा गया। तलाशी लेने पर उनके पास से 29 हजार रुपये के नकली नोट बरामद हुए। जानकारी मिली है कि सभी नोट 500-500 रुपये के बरामद किये गये हैं।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक पूछताछ में गिरोह के सदस्यों ने बताया कि 50 हजार रुपये के एक नंबर के नोट देने पर उन्हें एक लाख रुपये तक के नकली नोट मिल जाते थे। सभी नकली नोट लगभग असली नोटों से मेल खाते थे। इस कारण ये जल्दी पकड़ में नहीं आते। पुलिस को मिले इनपुट के मुताबिक इसके तार नेपाल और कोलकाता से जुड़े हैं। पुलिस इस बिंदु पर भी जांच कर रही है। शहर में नकली नोटों के कारोबार में शामिल अन्य लोगों के बारे में भी जांच की जा रही है। नकली नोटों के खिलाफ इस कार्रवाई को पुलिस बड़ी सफलता मान रही है।