Breaking :
||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू 28 फरवरी को आयेंगी रांची, सुरक्षा के रहेंगे कड़े इंतजाम||झारखंड: अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर युवती से किया दुष्कर्म, धर्म परिवर्तन कराकर जबरन करा दी शादी||लातेहार: बालूमाथ में लोडेड देशी पिस्टल के साथ दो युवक गिरफ्तार, कार जब्त||पीएम मोदी ने समुद्र में लगायी डुबकी, जलमग्न कृष्ण की नगरी द्वारका को देखा||लातेहार: बारियातू में ऑटो चालक की गोली मारकर हत्या, विरोध में सड़क जाम||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल
Monday, February 26, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामूपलामू प्रमंडल

प्रसव के दौरान जच्चा-बच्चा की मौत के बाद आक्रोशित परिजनों ने अस्पताल में किया हंगामा, डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप

पलामू : मेदिनीनगर के एमएमसीएच के नवनिर्मित मातृ एवं शिशु वार्ड में प्रसव के दौरान जच्चा-बच्चा की मौत के बाद शुक्रवार की रात आक्रोशित परिजनों ने जमकर हंगामा किया। पुलिस के हस्तक्षेप के बाद मामला शांत हुआ और जांच की घोषणा की गयी है। हालांकि परिजनों ने डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज कराने की जानकारी दी है।

महिला की पहचान कुंड मोहल्ला पनेरी गली निवासी पिंकी देवी पति राहुल गुप्ता के रूप में हुई है। महिला की एक वर्ष पहले शादी हुई थी। मामले में जिले के सिविल सर्जन डॉ. अनिल सिंह ने कहा कि जो भी आरोप लगाये गये हैं उसकी जांच होनी चाहिए और अगर डाक्टर और कर्मी दोषी पाये जाते हैं तो उन पर कार्रवाई होनी चाहिए। पैसे लेकर नॉर्मल डिलीवरी कराने के आरोप की भी जांच करायी जायेगी। सुपरिटेंडेंट इस मामले में पहल करेंगे।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इधर डॉक्टर आरके रंजन ने कहा कि प्रसव के क्रम में किसी तरह की लापरवाही नहीं बरती गयी है। डिलीवरी के दौरान कभी-कभी 100 केस में से 1-2 मामलों में मौत हो जाने की संभावना बनी रहती है। पेशेंट मौत से 5 मिनट पहले तक ठीक थी। उसे बचाने का हर संभव प्रयास किया गया। जो भी आरोप लगाये गये हैं, उसकी जांच होनी चाहिए। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से मौत का कारण स्पष्ट हो पायेगा।

मामले में झारखंड मुक्ति मोर्चा के वरिष्ठ नेता मनोज गुप्ता ने कहा कि महिला सुबह 9 बजे एडमिट हुई थी। डिलीवरी नहीं हुई थी। इसी क्रम में जच्चा बच्चा दोनों की मौत हो गयी। डिलीवरी कराने में लापरवाही बरती गयी। अंतिम समय तक स्पष्ट नहीं किया गया कि डिलीवरी नार्मल होगी या फिर सिजेरियन। इसी कारण से परिजन असमंजस में पड़े रह गये और उनके सामने ही यह घटना हो गयी। मामले में लापरवाही के खिलाफ डॉक्टर और कर्मियों पर एफआईआर दर्ज करायी जायेगी।

Palamu Latest News Today