Breaking :
||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर

लातेहार: हाथियों के झुंड का उत्पात जारी, नेतरहाट में 19 घर तबाह, एक मासूम की मौत

सोनू खान /महुआडांड़

लातेहार : जिले के नेतरहाट वन प्रक्षेत्र के जंगलों में हाथियों का उत्पात पिछले तीन दिनों से चरम पर है। वन क्षेत्र के हुसंबु गांव में मंगलवार शाम को जंगली हाथियों के झुंड द्वारा किए गये हमले में एक बच्चे की मौत हो गयी। जबकि बच्चे की मां और भाई गंभीर रूप से घायल हो गये। वहीं हाड़ीबार गांव में पांच घरों को ध्वस्त कर दिया।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस संबंध में वनपाल अजय टोप्पो ने बताया हुसंबु गांव में शाम लगभग पांच बजे अजय नगेसिया के घर में हाथियो की झुंड ने हमला कर दिया। घर में अजय नगेसिया की पत्नी मुनिया नगेसिया और दो बच्चे मौजूद थे।

हाथियों के हमला होते ही मुनिया नगेसिया अपने दोनों बच्चों के साथ घर से निकली। लेकिन घर के बाहर खड़े हाथी से टकरा गयी। जहां उसके गोद में मौजूद दो वर्ष का बच्चा सुर्या नगेसिया जमीन पर गिर पड़ा व बच्चा हाथी के पैर की चपेट में आ गया। जिससे उसकी मौत हो गयी। इसके बाद हाथी दूसरे बच्चे की ओर लपका लेकिन चार वर्षीय अभि नगेसिया उठकर भागने में सफल रहा।

हालांकि हाथी के हमले में बच्चे का एक हाथ जख्मी हो गया। हाथी द्वारा फिर मुनिया नगेसिया पर हामला किया। जिससे हमले में उसका एक पैर बूरी तरह जख्मी हो गया। वही देर रात हाड़ीबार टोला में हाथियों के दल ने हमला कर दिया जिसमे माइकल कुजूर, बेनेडिक्ट केरकेट्टा, सुधीर केरकेट्टा, अजय यादव, मार्ग्रेट केरकेट्टा के घर को ध्वस्त कर दिया।

घटना की सूचना मिलते बुधवार सुबह वन विभाग की टीम ने घटनास्थल पर पहुंच घायल बच्चे और मां को नेतरहाट स्वास्थ्य केंद्र लाया। जहां प्राथमिक उपचार के बाद बेहतर इलाज के लिए गुमला रेफर कर दिया गया।

इस संबंध में रेंजर बृंदा पांडेय ने बताया मृत बच्चे के पिता को तत्काल मदद के रूप में 25 हजार दिया गया। साथ घायलों के इलाज हेतु 10 हजार रुपए उपलब्ध कराए गये और जल्द ही मृतक के परिजनों को मुआवजा भुगतान किया जायेगा। वही थाना प्रभारी बंधन भगत ने हुसंबु गांव पहुंच बच्चें के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम हेतु लातेहार भेज दिया।

चिकित्सक के अभाव में ड्रेसर के द्वारा किया गया प्राथमिक उपचार

हाथियों के हमले में घायल मुनिया नगेसिया एवं उनके पुत्र अभि नगेसिया को जब बेहतर इलाज के लिए नेतरहाट स्थित राजकीय औषधालय नेतरहाट हाॅस्पीटल लाया गया, तो वंहा कोई भी चिकित्सक मौजूद नही थे। अस्पताल में मौजूद एकमात्र ड्रेसर नन्दू पासवान के द्वारा घायलों का किसी तरीके से इलाज किया गया। वहीं घायल मुनिया देवी को जमीन पर लेटाकर इलाज किया गया। इस संबंध में पुछे जाने पर ड्रेसर नंदू पासवान ने बताया कि अस्पताल में बिशुनपुर के डाक्टर एस. ठाकुर की प्रतिनियुक्त की गयी है लेकिन वह कभी आते नही हैं। मुझे ही किसी प्रकार सब कुछ मैनेज करना पड़ता है।