Breaking :
||लातेहार में PLFI के दो उग्रवादी हथियार के साथ गिरफ्तार, ठेकेदारों को फोन पर देते थे धमकी||पलामू: JJMP के सब जोनल कमांडर ने किया सरेंडर, खोले कई चौंकाने वाले राज||लातेहार: अनियंत्रित बोलेरो ने खड़े ट्रक में मारी टक्कर, दो युवकों की मौत, चार की हालत नाजुक||हेमंत सरकार का निर्णय, सरकारी कार्यक्रमों में ‘जोहार’ शब्द से अभिवादन करना अनिवार्य||सरकार खतियान आधारित स्थानीयता बिल फिर राज्यपाल को भेजेगी : JMM||राज्य स्तरीय झांकी में पलामू किला को मिला पहला स्थान, राज्यपाल ने किया पुरस्कृत||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा

लातेहार: पीटीआर के गारू पूर्वी वन क्षेत्र में हाथी की मौत, पोस्टमार्टम के लिए पहुंची मेडिकल टीम

लातेहार : जिले के पलामू टाइगर रिजर्व के गारू पूर्वी वन क्षेत्र के फुलहर जंगल में एक जंगली हाथी की मौत हो गई है। हाथी के शव से दुर्गंध आ रही है। बताया जा रहा है कि करीब दस दिन पहले हाथी की मौत हो गई थी।

लेकिन वन विभाग के अधिकारियों को सोमवार को इसकी जानकारी मिली। इसके बाद वे जंगल पहुंचे। मंगलवार को मेडिकल टीम मृत हाथी का पोस्टमार्टम करने पहुंची। हाथी की उम्र 40 साल से ज्यादा बताई जा रही है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जंगली हाथी की दस दिन पहले गारू पूर्वी वन क्षेत्र से करीब सात किलोमीटर दूर फुलहर के घने जंगलों में मौत हो गई थी, लेकिन सोमवार को हाथी की मौत की जानकारी वन विभाग को मिली। वनकर्मियों ने इसकी जानकारी वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को दी।

सूचना मिलने के बाद बाघ परियोजना के उप निदेशक मुकेश कुमार ने मौके पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया, लेकिन हाथी की मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो पाया है। मंगलवार को मेडिकल टीम मृत हाथी का पोस्टमार्टम करने पहुंची है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

जहां हाथी की मौत हुई है वहां मीडियाकर्मियों को जाने से रोक दिया गया है। वन कर्मियों ने बताया कि अधिकारियों ने मीडियाकर्मियों को साइट पर जाने से मना किया है। जंगल की ओर जाने वाली कच्ची सड़क पर चार वन कर्मियों को निगरानी के लिए रखा गया है, जो मीडियाकर्मियों को जंगल में प्रवेश नहीं करने दे रहे हैं। इस संबंध में उप निदेशक मुकेश कुमार ने कहा कि हाथी की मौत से संबंधित जो भी जानकारी व तस्वीरें होंगी मीडियाकर्मियों तक पहुंचाई जाएंगी।