Breaking :
||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर 62.13 फीसदी वोटिंग, सबसे अधिक जमशेदपुर, सबसे कम रांची में मतदान||झारखंड में कल से दिखेगा चक्रवाती तूफान ‘रेमल’ का असर, लातेहार, गढ़वा, पलामू व चतरा जिले में भी असर||लातेहार: दुकान में चोरी करने आये तीन चोर आग में झुलसे, एक की मौत, दो गंभीर||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर वोटिंग कल, 82 लाख मतदाता करेंगे 93 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला||पलामू: तत्कालीन एसपी के फर्जी हस्ताक्षर से बने 12 चरित्र प्रमाण पत्र, बड़ा गिरोह सक्रिय||ED की टीम फिर पहुंची आलमगीर आलम के पीएस संजीव लाल के नौकर जहांगीर के घर||झारखंड: ज्वैलर्स शोरूम से दो लाख रुपये नकद समेत 50 लाख के आभूषण की लूट||निशिकांत दुबे के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत||लातेहार: चुनाव कार्य में लापरवाही बरतने वाले 9 कर्मियों पर प्राथमिकी दर्ज||बंगाल की खाड़ी में बन रहे लो प्रेशर का झारखंड में असर, ऑरेंज अलर्ट जारी, झमाझम बारिश से लोगों को गर्मी से मिली राहत
Sunday, May 26, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरगारूलातेहार

लातेहार: पीटीआर के गारू पूर्वी वन क्षेत्र में हाथी की मौत, पोस्टमार्टम के लिए पहुंची मेडिकल टीम

लातेहार : जिले के पलामू टाइगर रिजर्व के गारू पूर्वी वन क्षेत्र के फुलहर जंगल में एक जंगली हाथी की मौत हो गई है। हाथी के शव से दुर्गंध आ रही है। बताया जा रहा है कि करीब दस दिन पहले हाथी की मौत हो गई थी।

लेकिन वन विभाग के अधिकारियों को सोमवार को इसकी जानकारी मिली। इसके बाद वे जंगल पहुंचे। मंगलवार को मेडिकल टीम मृत हाथी का पोस्टमार्टम करने पहुंची। हाथी की उम्र 40 साल से ज्यादा बताई जा रही है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जंगली हाथी की दस दिन पहले गारू पूर्वी वन क्षेत्र से करीब सात किलोमीटर दूर फुलहर के घने जंगलों में मौत हो गई थी, लेकिन सोमवार को हाथी की मौत की जानकारी वन विभाग को मिली। वनकर्मियों ने इसकी जानकारी वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को दी।

सूचना मिलने के बाद बाघ परियोजना के उप निदेशक मुकेश कुमार ने मौके पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया, लेकिन हाथी की मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो पाया है। मंगलवार को मेडिकल टीम मृत हाथी का पोस्टमार्टम करने पहुंची है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

जहां हाथी की मौत हुई है वहां मीडियाकर्मियों को जाने से रोक दिया गया है। वन कर्मियों ने बताया कि अधिकारियों ने मीडियाकर्मियों को साइट पर जाने से मना किया है। जंगल की ओर जाने वाली कच्ची सड़क पर चार वन कर्मियों को निगरानी के लिए रखा गया है, जो मीडियाकर्मियों को जंगल में प्रवेश नहीं करने दे रहे हैं। इस संबंध में उप निदेशक मुकेश कुमार ने कहा कि हाथी की मौत से संबंधित जो भी जानकारी व तस्वीरें होंगी मीडियाकर्मियों तक पहुंचाई जाएंगी।