Breaking :
||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत||लातेहार: बारियातू में पेड़ से लटका मिला महिला का शव, जांच में जुटी पुलिस||गुमला में TSPC के चार उग्रवादी गिरफ्तार, हथियार और जिंदा कारतूस समेत अन्य सामान बरामद||चतरा: नक्सलियों की बड़ी साजिश नाकाम, दो सिलेंडर बम बरामद||मनी लॉन्ड्रिंग मामले में निलंबित मुख्य अभियंता वीरेंद्र राम की जमानत याचिका खारिज, पत्नी व पिता को भी नहीं मिली राहत||नहाय खाय के साथ सूर्योपासना का चार दिवसीय चैती छठ महापर्व शुरू||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में अनुपस्थित 56 मतदान कर्मियों को मिला आखिरी मौका, उपस्थित नहीं हुए तो होगी कार्रवाई
Sunday, April 14, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड में नक्सलियों को लगा तगड़ा झटका, केंद्रीय कमेटी सदस्य मिसिर बेसरा दस्ते के दो महिला नक्सली समेत आठ माओवादियों ने किया पुलिस के सामने सरेंडर

रांची : झारखंड में प्रतिबंधित संगठन भाकपा माओवादी को बड़ा झटका लगा है। केंद्रीय कमेटी सदस्य मिसिर बेसरा दस्ते के दो महिला नक्सली समेत आठ नक्सलियों ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है।

दो महिला नक्सली शामिल

जानकारी के अनुसार महिला नक्सली सरिता सरदार, जयराम सहित आठ हार्डकोर नक्सलियों ने आत्मसमर्पण नीति से प्रभावित होकर पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है। झारखंड पुलिस मुख्यालय में इस संबंध में आज दोपहर 1:00 बजे एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया है। जिसमें सरेंडर किये गये नक्सलियों को सामने लाया जायेगा।

KIDZEE Ad

पदाधिकारियों के सामने करेंगे विधिवत सरेंडर

पुलिस मुख्यालय की ओर से बताया गया है कि झारखंड सरकार के आत्मसमर्पण एवं पुनर्वास नीति से प्रभावित होकर भाकपा माओवादी संगठन के केंद्रीय कमेटी सदस्य मिसिर बेसरा दस्ते के आठ माओवादी सदस्यों ने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है। दोपहर एक बजे विधिवत झारखंड पुलिस व सीआरपीएफ के पदाधिकारियों के सामने आत्मसमर्पण करेंगे।

भाकपा माओवादी के रीजनल कमांडर ने किया था सरेंडर

झारखंड पुलिस को नक्सलियों के खिलाफ लगातार सफलता मिल रही है। 1 सप्ताह के अंदर माओवादियों को यह दूसरा बड़ा झटका लगा है। इससे पहले विगत 28 दिसंबर को भाकपा माओवादी के रीजनल कमांडर अमन गंझू ने पुलिस के सामने सरेंडर किया था। अमन गंझू पर सरकार ने 15 लाख के इनाम घोषित कर रखा था। जबकि एनआईए ने उस पर चार लाख का इनाम घोषित कर रखा था।

संगठन में हो रहे भेदभाव से थे नाराज

बताया जाता है कि कोल्हान इलाके में माओवादियों की एक बड़ी बैठक हुई थी। उस बैठक में आत्मसमर्पण करने वाले नक्सलियों के खिलाफ कई तरह के आरोप लगाये गये थे। बैठक में कई नक्सलियों ने एक साथ मिलकर इस आरोप का खंडन भी किया था। लेकिन उनकी बात नहीं मानी गयी। संगठन में हो रहे भेदभाव से नाराज होकर सभी 8 नक्सली मिसिर बेसरा के दस्ता को छोड़कर फरार हो गये। इसके बाद उन्होंने पुलिस अधिकारियों से संपर्क किया था ताकि आत्मसमर्पण कर सकें।