Breaking :
||पलामू: शहर में बिना अनुमति के जुलूस निकालने पर होगी कार्रवाई, रात 10 बजे के बाद डीजे बजाने पर रोक||लातेहार: मवेशियों से लदा ट्रक दुर्घटनाग्रस्त, ग्रामीणों ने एक तस्कर को पकड़ कर किया पुलिस के हवाले, डाल्टनगंज से खरीद कर रांची के मांस कारोबारी को जा रहे थे पहुंचाने||प्रेमिका से वीडियो कॉल पर बात करते प्रेमी ने दे दी जान||लातेहार: बालूमाथ में फिर एक विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, पुलिस जांच में जुटी||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, मायके वालों ने लगाया हत्या का आरोप||लातेहार: मनिका में सड़क निर्माण स्थल पर उग्रवादियों का हमला, JCB मशीन में लगायी आग||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी

कांग्रेस के तीनों विधायकों के खिलाफ मनी लांडरिंग की जांच करेगी ईडी

रांची : कांग्रेस के विधायक डॉ. इरफान अंसारी, नमन बिक्सल कोंगाड़ी और राजेश कच्छप से जुड़े कैश कांड मामले में ईडी मनी लांडरिंग की जांच करेगी। ईडी ने तीनों विधायकों के खिलाफ मनी लांडरिंग के तहत मामला दर्ज किया है। कैश कांड मामले की जांच कोलकाता पुलिस भी कर रही है। तीनों विधायकों के खिलाफ विधायक दल के नेता आलमगीर आलम की शिकायत पर स्पीकर के न्यायाधिकरण में भी दलबदल का मामला चल रहा है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

सनद रहे कि 30 जुलाई को तीनों विधायकों को कोलकाता पुलिस ने एनएच-16 पर रानीहाटी के पास 49 लाख रुपये के साथ गिरफ्तार किया था। बाद में इस मामले की जांच कोलकाता सीआईडी को ट्रांसफर कर दी थी। विधायकों पर आरोप है कि उन्होंने झारखंड की मौजूदा हेमंत सरकार को गिराने के एवज में ये रुपये लिए थे। विधायकों का तर्क था वे लोग विश्व आदिवासी दिवस पर वितरण के लिए साड़ी और फुटबॉल खरीदने जा रहे थे।

30 जुलाई को पश्चिम बंगाल के हावड़ा में तीनों विधायकों को गिरफ्तार के बाद रांची स्थित अरगोड़ा थाने में बेरमो से विधायक कुमार जयमंगल उर्फ अनूप सिंह ने जीरो एफआईआर दर्ज करवाई। प्राथमिकी में कहा गया था कि गिरफ्तार तीनों विधायक ने उन्हें हेमंत सरकार को गिराने के एवज में मंत्रीपद और 10 करोड़ रुपये का ऑफर दिया था। तीनों विधायकों ने उनको कोलकाता बुलाया था, जहां से वे गुवाहाटी जाने वाले थे। गुवाहाटी में उनकी मुलाकात असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा से होनी थी। रांची पुलिस ने इस जीरो एफआईआर को कोलकाता पुलिस को ट्रांसफर कर दिया था। पश्चिम बंगाल सरकार ने मामले की जांच सीआईडी को सौंप दी थी।