Breaking :
||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन||हेमंत ने जमशेदपुर वासियों को दी सौगात, जुगसलाई ओवरब्रिज का किया उद्घाटन||जमशेदपुर-कोलकाता विमान सेवा का शुभारंभ, मुख्यमंत्री ने कहा- सभी जिलों को हवाई सेवा से जोड़ने की तैयार की जा रही कार्ययोजना||पलामू में हल्का कर्मचारी रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||पाकुड़: मूर्ति विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने जुलूस पर किया पथराव||हजारीबाग: पुआल में लगी आग, दो मासूम बच्चे जिंदा जले, पुलिस जांच में जुटी||चाईबासा: PLFI के तीन उग्रवादी गिरफ्तार, AK-47 समेत अन्य हथियार बरामद

ED ने साहिबगंज डीसी से सात घंटे तक की पूछताछ, छह फरवरी को फिर से बुलाया

रांची : ईडी ने सोमवार को साहिबगंज के डीसी रामनिवास यादव से लगभग सात घंटे तक पूछताछ की। डीसी सुबह 11 बजे ईडी की क्षेत्रीय कार्यालय आये और शाम छह बजे वहां से निकले। ईडी के अधिकारिक सूत्रों ने बताया कि उनसे ईडी ने पूछा कि क्या उन्हें अपने जिले में हुए अवैध पत्थर खनन घोटाले की जानकारी है या नहीं। जिले में हुए 1000 करोड़ के अवैध खनन की जांच एजेंसी कर रही है। डीसी ने सही तथ्य पेश करने के लिए 10 दिनों का अतिरिक्त समय मांगा। ईडी ने उन्हें छह फरवरी को फिर से पूछताछ के लिए बुलाया है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

सूत्रों ने बताया कि ईडी ने उनसे पूछा कि क्या उन्हें इस बात की जानकारी है कि 2010 और 2019 में झारखंड सरकार के वैधानिक आदेश के अनुसार संबंधित जिले के डीसी और एसपी अवैध खनन, परिवहन और उपयोग को रोकने के लिए पूरी तरह से जिम्मेदार हैं। सभी प्रकार के खनिज के लिए। ईडी ने पूछा कि क्या आपने अपने कर्तव्यों का निर्वहन सही तरीके से किया। डीसी अधिक्तर सवालों के जवाब नहीं दे पाये।

2015 बैच के आईएएस अधिकारी रामनिवास यादव ने अक्टूबर 2020 में साहिबगंज के उपायुक्त के रूप में ज्वाइन किया था। आरोप है कि सबसे ज्यादा अवैध पत्थर खनन और परिवहन उन्हीं के शासन में हुआ।

साहिबगंज डीसी ED पूछताछ