Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

ED ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि को लिया हिरासत में, 12 ठिकानों पर छापेमारी

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा को ईडी की टीम ने उत्तराखंड से गिरफ्तार किया है। टेंडर घोटाले में टीम ने उन्हें हिरासत में लेकर दिल्ली ले गयी है, जहां उनसे पूछताछ की जाएगी। इधर शुक्रवार सुबह ईटी ने पंकज मिश्रा के 12 ठिकानों पर छापेमारी की।

धनबाद जिले में शुक्रवार सुबह से ईडी की टीम टेंडर घोटाले के सिलसिले में पंकज मिश्रा के स्थानीय आवास पर छापेमारी कर रही है। इसके साथ ही साहेबगंज के 12 स्थानों पर भी कार्रवाई की गई है। छापेमारी सुबह पांच बजे ही शुरू हुई। फिलहाल पूरे इलाके को सील कर दिया गया है। साथ ही हर जगह सीआरपीएफ तैनात है।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, जिन अन्य जगहों पर छापेमारी की जा रही है, वे पंकज मिश्रा के करीबी बताए जा रहे हैं। दरअसल, साहेबगंज जिले के बरहरवा में जून 2020 के टेंडर विवाद में मामला दर्ज किया गया था. जिसे ईडी ने अपने कब्जे में ले लिया है। बरहरवा का यह मामला शंभू नंदन कुमार उर्फ शंभू भगत ने दर्ज कराया था। पूछताछ में शंभू ने ईडी को बताया कि नगर पंचायत बरहरवा में वाहन प्रवेश शुल्क की वसूली के टेंडर में मंत्री आलमगीर आलम के भाई की कंपनी शामिल थी।

उस कंपनी ने एक डमी कंपनी के जरिए 5 करोड़ रुपए तक की बोली लगाई थी। बाद में पैसा जमा नहीं करने पर आलमगीर आलम की कंपनी ने दूसरी बोली 1.46 करोड़ में लगाकर ठेका ले लिया. शंभू को इस बात की जानकारी थी इसलिए उन्होंने 1.80 करोड़ में यह ठेका लिया। उन्होंने मंत्री आलमगीर आलम और सीएम के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा के कहने पर बरहरवा थाने में मारपीट मामले में प्राथमिकी दर्ज कराई थी। साहेबगंज पुलिस ने दोनों आरोपियों को क्लीन चिट दे दी है।

पंकज मिश्रा ने ईडी को दी थी चुनौती

बता दें कि 11 मई को आईएएस अधिकारी पूजा सिंघल को झारखंड में मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामले में गिरफ्तार किया गया है। पूजा सिंघल फिलहाल जेल में हैं। वहीं 6 मई को ईडी ने रांची समेत पूजा सिंघल के परिजनों के यहां छापेमारी की थी। छापेमारी के दौरान ईडी को 19 करोड़ से ज्यादा नकद और कई अहम दस्तावेज मिले।

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले पंकज मिश्रा ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि वह ईडी की जांच से डरते नहीं हैं। वह तैयार बैठे हैं और उस दिन का इंतजार कर रहे हैं जब ईडी के अधिकारी उनसे पूछताछ करेंगे। उन्होंने कहा था कि मैंने कोई गलत काम नहीं किया है और मैं हर सवाल का जवाब देने के लिए तैयार हूं।

कहां-कहां हुई ED की छापामारी

साहेबगंज

पंकज मिश्रा, विधायक प्रतिनिधि, सीएम
छोटू यादव, साहिबगंज, पत्थर कारोबारी
वेदु खुडानिया, साहिबगंज, पत्थर कारोबारी
दाहू यादव, साहिबगंज, साहिबगंज-मनिहारी फेरी सेवा संचालक
संजय दीवान, ज्वेलर, साहिबगंज

बरहड़वा

कृष्णा साहा (रिसौड़), पत्थर कारोबारी
भगवान भगत (बरहड़वा), पत्थर कारोबारी
दिलीप साह(दुलूमपुर) बाइक शोरूम
भवेश भगत(बरहड़वा), पत्थर कारोबारी,
सुब्रत पाल, पत्थर कारोबारी, बरहड़वा मिर्जाचौकी
पतरू सिंह, मिर्जाचौकी
ट्विंकल भगत, मिर्जाचौकी
राजू भगत, मिर्जाचौकी

राजमहल

सोनू सिंह (राजमहल), पत्थर कारोबारी व राजमहल फेरी सेवा संचालक

बरहेट

निमाई शील (बरहेट), पत्थर व बालू कारोबारी