Breaking :
||तैयारी में जुटे छात्र ध्यान दें: झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने एक दर्जन प्रतियोगी परीक्षाओं के विज्ञापन किये रद्द||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन||हेमंत ने जमशेदपुर वासियों को दी सौगात, जुगसलाई ओवरब्रिज का किया उद्घाटन||जमशेदपुर-कोलकाता विमान सेवा का शुभारंभ, मुख्यमंत्री ने कहा- सभी जिलों को हवाई सेवा से जोड़ने की तैयार की जा रही कार्ययोजना||पलामू में हल्का कर्मचारी रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||पाकुड़: मूर्ति विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने जुलूस पर किया पथराव||हजारीबाग: पुआल में लगी आग, दो मासूम बच्चे जिंदा जले, पुलिस जांच में जुटी

लातेहार: माइंस खोलने को लेकर भूमि पूजन करने मंगरा गांव पहुंची डीवीसी कंपनी का विरोध, दो पक्षों में जमकर मारपीट, आधा दर्जन लोग घायल

लातेहार : दामोदर घाटी निगम (डीवीसी) सोमवार सुबह सदर प्रखंड के मंगरा गांव में कंपनी की माइंस खोलने के लिए भूमि पूजन करने पहुंचे थे। इस दौरान दो पक्षों में जमकर मारपीट हो गई। जिसमें करीब आधा दर्जन लोग घायल हो गये।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

घायलों में प्रीतम सिंह (25) पिता स्व. जशवंत सिंह, अमृता देवी (50) पति सुरेंद्र भगत (दुबियाही), गेंदा उरांव (40) पिता बुधन उरांव, उर्मिला देवी (35) पति कृष्णा उरांव, गुड़िया देवी (35) पति लक्ष्मण उरांव (तीनों, नेवाड़ी), विष्णु उरांव (40) पिता बिगू उरांव (तुबेद) घायल हो गए हैं। सभी घायलों को इलाज के लिए सदर अस्पताल लाया गया। जहां डॉक्टर सुनील कुमार ने इलाज किया।

घायल प्रीतम सिंह (25) पिता स्व. जशवंत सिंह

बताया जाता है कि एक पक्ष कंपनी द्वारा माइंस खोले जाने के समर्थन कर रहे थे, तो दूसरा पक्ष विरोध कर रहा था। इसी बात को लेकर तू-तू मैं-मैं करते हुए मारपीट में पहुंच गई। हालांकि स्थानीय पुलिस की मौजूदगी के कारण दोनों पक्षों को समझा कर मामले को शांत कराया गया। इसके बाद कंपनी द्वारा भूमि पूजन किया गया।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

मालूम हो कि कंपनी खोलने को लेकर स्थानीय रैयतों द्वारा तक लगातार कई वर्षों से विरोध प्रदर्शन करते आ रहे है। तीन दिन पहले भी स्थानीय रैयतों ने डीवीसी कंपनी द्वारा कोल माइंस खोले जाने के विरोध में डीसी कार्यालय का घेराव किया था। इस दौरान उपायुक्त भोर सिंह यादव, डीवीसी कंपनी के प्रतिनिधि व स्थानीय रैयतों के बीच बातचीत की गई थी। जिस पर उपायुक्त ने स्थानीय रैयतों से आपसी समन्वय बनाकर कंपनी खोले जाने की बात कही थी, लेकिन कंपनी अपनी मनमानी करते हुए सोमवार को शिलान्यास करने पहुंची थी।

इधर, पुलिस निरीक्षक सह थाना प्रभारी अमित कुमार गुप्ता ने बताया कि भूमि पूजन के दौरान दो पक्षों में मारपीट होते ही पुलिस बल के द्वारा दोनों पक्षों को आपसी समझौते कर मामला को शांत कराया गया। उन्होंने बताया कि गांव में दोनों पक्षों के लोगों को एक साथ बैठाकर समझा-बुझाकर मामले को सुलह करा लिया गया है।