Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

आदिवासियों की पहचान की रक्षा को लेकर पारंपरिक पड़हा स्वशासन व्यवस्था की बैठक में विभिन्न मुद्दों पर चर्चा

बारियातू /संजय राम

लातेहार : बारियातू प्रखंड अंतर्गत टोंटी पंचायत के जतरा टांड इटके मध्य विद्यालय के समीप शनिवार को पारंपरिक पड़हा स्वशासन व्यवस्था, पड़हा चट्टा का एक दिवसीय कार्यक्रम आयोजित की गई। कार्यक्रम की अध्यक्षता मोहन उरांव ने की।

कार्यक्रम में बारियातू, बालूमाथ व हेरहंज तीनों प्रखंड के सक्रिय सदस्यों का प्रखंडवार आदिवासियों की आर्थिक एवं आदिवासी पहचान की रक्षा को लेकर चर्चा की गई।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पड़हा प्रदेश संयोजक देव कुमार धान ने पारंपरिक पड़हा स्वाशसन व्यवस्था, जमीन, धर्म, भाषा, संस्कृति, आदिवासी पड़हा स्वशासन व्यवस्था, बेटी बहन की रक्षा, शिक्षा, और आर्थिक विकास, संवैधानिक अधिकार, कानून व्यवस्था के बारे में विशेष रूप से उपस्थित लोगों को जानकारी दी।

वही जिला पड़हा के प्रभु दयाल उरांव, दिलीप उरांव, प्रखंड पड़हा लालजी उरांव, धर्म अगुआ तेतर उरांव, दिगंबर टाना भगत, विकास प्राधिकार जिला लातेहार प्रतिनिधि सदस्य मुनेश्वर उरांव ने भी अपने अपने विचार व्यक्त किये।

कार्यक्रम में मुख्य रूप से रंजन उरांव, अर्जुन उरांव, विष्णुदेव उरांव, उर्मिला देवी, धनो देवी, नरेश उरांव रामेश्वर उरांव संतोष उरांव सहित दर्जनों की संख्या में आदिवासी महिला पुरुषों ने भाग लिया।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *