Breaking :
||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत||लातेहार: बारियातू में पेड़ से लटका मिला महिला का शव, जांच में जुटी पुलिस||गुमला में TSPC के चार उग्रवादी गिरफ्तार, हथियार और जिंदा कारतूस समेत अन्य सामान बरामद||चतरा: नक्सलियों की बड़ी साजिश नाकाम, दो सिलेंडर बम बरामद||मनी लॉन्ड्रिंग मामले में निलंबित मुख्य अभियंता वीरेंद्र राम की जमानत याचिका खारिज, पत्नी व पिता को भी नहीं मिली राहत||नहाय खाय के साथ सूर्योपासना का चार दिवसीय चैती छठ महापर्व शुरू||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में अनुपस्थित 56 मतदान कर्मियों को मिला आखिरी मौका, उपस्थित नहीं हुए तो होगी कार्रवाई
Sunday, April 14, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडलमनिकालातेहार

लातेहार: स्कूलों में शिक्षकों की कमी के खिलाफ मनिका में छात्रों व अभिभावकों ने किया प्रदर्शन

लातेहार : विभिन्न प्राथमिक विद्यालयों में एकमात्र पारा शिक्षक पदस्थापित रहने के खिलाफ शुक्रवार को अभिभावकों और छात्र-छात्राओं ने मनिका प्रखंड मुख्यालय में प्रसिद्ध अर्थशास्त्री प्रोफेसर ज्यांद्रेज के नेतृत्व में प्रदर्शन किया ।

इस दौरान मनिका प्रखंड कार्यालय के प्रांगण में आयोजित सभा में संबोधित करते हुए प्रसिद्ध अर्थशास्त्री सह सामाजिक कार्यकर्ता ज्यांद्रेज ने कहा कि शिक्षा का अधिकार बच्चों का मौलिक अधिकार है और इसको हर हालत में पूरा करना जरूरी है। उन्होंने कहा कि हर तीस बच्चों पर एक टीचर होना चाहिए और हर स्कूल में कम से कम दो शिक्षक होने चाहिए।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उन्होंने कहा कि वे कई ऐसे बच्चों से मिले जो पांचवीं कक्षा में हैं, लेकिन नहीं पढ़ पा रहे हैं। इसका मतलब यह नहीं है कि बच्चा बेवकूफ है। असल में इसका मतलब यह है कि सरकार बच्चों को पढ़ा नहीं रही है। उन्होंने कहा कि अधिकांश एकल शिक्षक वाले विद्यालय दलित और आदिवासी बहुल क्षेत्र में ही हैं । इसे देखते हुए ऐसा लग रहा है कि शिक्षा में भेदभाव किया जा रहा है।

सामाजिक कार्यकर्ता जेम्स हेरेंज ने कहा बच्चों को शिक्षा से वंचित करना एक हिसाब से देश को कमजोर करना है। क्योंकि आज के बच्चे ही कल के भविष्य हैं। ये परिस्थिति अकेले मनिका की नहीं है। बल्कि पूरे राज्य की है। कानूनी प्रावधान के तहत मनिका के 44 प्राथमिक विद्यालयों में 106 टीचर होने चाहिए। लेकिन केवल 44 है। यह आदिवासी और दलित बच्चों को शिक्षा से वंचित करने का एक साजिश है।

सभा को ग्रामीण मनोज सिंह, संतोष सिंह, बीना देवी, सकलदीप सिंह, छात्रा पायल कुमारी, यमुना देवी तथा ग्राम स्वराज मजदूर संघ की तरफ से श्यामा सिंह, नेमी देवी, परान, अपूर्व जुगेश्वर सिंह, लालबिहारी सिंह, दिलीप रजक, महावीर परहिया, आदि ने संबोधित किया। कार्यक्रम के समापन के बाद मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन सौंपा गया।

Latehar Manika News Today