Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

BREAKING: पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में घायल सीआरपीएफ जवान की इलाज के दौरान मौत

चतरा : पुलिस और नक्सली मुठभेड़ में गम्भीरं रूप से जख्मी सीआरपीएफ जवान चित्तरंजन कुमार की रांची के एक अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। चार दिन पहले चतरा के प्रतापपुर थाना क्षेत्र के चतरा-पलामू सीमा पर स्थित बिरमाटकुम जंगल में सीआरपीएफ 190 बटालियन के चित्तरंजन कुमार मुठभेड़ में घायल हो गए थे। मुठभेड़ में जवान के पैर और कमर में गोली लगी थी।

घायल चित्तरंजन कुमार को एअरलिफ्ट कर बेहतर इलाज के लिए रांची ले जाया गया, जहां उनकी हालत गंभीर बनी हुई थी। सीआरपीएफ अधिकारियों के मुताबिक चितरंजन कुमार की इलाज के दौरान मौत हो गई है। फिलहाल शव का पोस्टमार्टम कराने की कार्रवाई की जा रही है। जिसके बाद सीआरपीएफ कैंप में अंतिम विदाई दी जाएगी।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

आपको बता दें कि रविवार 18 सितंबर को चतरा में प्रतिबंधित भाकपा-माओवादी और सीआरपीएफ के जवानों के बीच भीषण मुठभेड़ हुई थी। प्रतापपुर थाना क्षेत्र के चतरा-पलामू सीमा पर स्थित बिरमाटकुम जंगल में मुठभेड़ में सीआरपीएफ 190 बटालियन का जवान चित्तरंजन कुमार घायल हो गए थे। जिन्हें प्रतापपुर स्वास्थ्य उपकेंद्र में प्राथमिक उपचार के बाद एयरलिफ्ट कर बेहतर इलाज के लिए रांची भेजा गया था।

जानकारी के मुताबिक सीआरपीएफ 190 बटालियन और पुलिस की टीम सर्च ऑपरेशन चला रही थी। इस दौरान रीजनल कमिटी सदस्य अरविंद भुइयां और मनोहर गंझू दस्ते के साथ मुठभेड़ हुई थी।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

मुठभेड़ के संबंध में बताया गया कि गुप्त सूचना मिली थी कि रीजनल कमेटी सदस्य मनोहर गंझू प्रतापपुर थाना क्षेत्र के वन क्षेत्रों में अपने दस्ते के साथ बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए घूम रहे हैं। इस अभियान के दौरान नक्सलियों ने बिरमाटकुम जंगल में सुरक्षाबलों पर फायरिंग शुरू कर दी। जिसके बाद सुरक्षाबलों ने तत्काल मोर्चा संभालते हुए नक्सलियों को मुंहतोड़ जवाब दिया। इस मुठभेड़ के दौरान कुल 4 से अधिक नक्सलियों को भी गोली लगी है। जिसके बाद घायल नक्सलियों को उनके साथी लेकर जंगल से भागने में सफल रहे हैं।

जानकारी के अनुसार जवान को रांची के सीआरपीएफ 133 बटालियन मुख्यालय में अंतिम सलामी दी जाएगी। चतरा से 190 बटालियन के कमांडेंट मनोज कुमार समेत शीर्ष अधिकारी रांची रवाना हो गए हैं। चितरंजन बिहार के राजगीर जिले के रहने वाले थे। जवान के शहीद होने की खबर से बटालियन मुख्यालय समेत पुलिस महकमे में शोक की लहर दौड़ गयी है। रांची से ही शहीद के शव को उनके पैतृक गांव राजगीर भेजा जाएगा।