Breaking :
||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या||पलामू समेत झारखंड के इन चार लोकसभा सीटों के लिए 18 से शुरू होगा नामांकन, प्रत्याशी गर्मी की तपिश में बहा रहे पसीना||रामनवमी के दौरान माहौल बिगाड़ने वाले आपत्तिजनक पोस्ट पर झारखंड पुलिस की पैनी नजर, गाइडलाइन जारी||झारखंड: प्रचार करने पहुंचीं भाजपा प्रत्याशी गीता कोड़ा का विरोध, भाजपा और झामुमो कार्यकर्ताओं के बीच झड़प||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत
Sunday, April 14, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोले कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष भाजपा पहले चंदा लेती है और धंधा देती है

Jharkhand Congress Press Conference

रांची : कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने कहा कि भाजपा पहले चंदा लेती है और धंधा देती है। उन्होंने कहा कि भाजपा की नीति रही है राम नाम जपना, पराया माल अपना और इसी तर्ज पर भाजपा नेताओं ने गैंग बनाकर इलेक्टोरल बॉन्ड के जरिये रकम की वसूली की है। ठाकुर शुक्रवार को रांची स्थित कांग्रेस भवन में प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोल रहे थे।

ठाकुर ने कहा कि 15 फरवरी को इलेक्टोरल बॉन्ड को असंवैधानिक घोषित करने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से केंद्र की भाजपा सरकार एसबीआई के माध्यम से लगातार इस बात को सामने आने से रोकने या देरी करने की कोशिश कर रही थी। क्योंकि, इलेक्टोरल बॉन्ड के घोटाले सामने आने से प्रधानमंत्री के भ्रष्टाचार के मामले में दोहरी नीति का पर्दाफाश न हों। उन्होंने कहा आश्चर्य की बात यह है कि 20 फरवरी को ईडी, सीबीआई और आईटी विभाग के छापे या जांच के तुरंत बाद 30 कंपनियों से भाजपा को 335 करोड़ रुपये तक का चंदा मिलना यह साबित करता है कि भाजपा संवैधानिक संस्थाओं को इस्तेमाल डरा-धमका कर हफ्ता वसूली में लगी है।

ठाकुर ने कहा कि सेबी ने जिन चार कंपनियों को फर्जी (स्मॉल कंपनीज) बताया है, उनसे भाजपा ने 4.9 करोड़ का चंदा क्यों लिया? इन कंपनियों के माध्यम से भाजपा के पास किसका काला धन आया? कोरोना जैसी बड़ी महामारी में मोदी सरकार ने टीके बनाने का एकमात्र अधिकार सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को दिया। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने भी 50 करोड़ का चंदा दिया। इससे भी मन नहीं भरा तो बूस्टर डोज लगवाया। उन्होंने कहा कि जिसका परिणाम यह देखने को मिला रहा है कि युवा और बुजुर्ग को हार्ट अटैक हो रहे हैं। मोदी को इसका जवाब देना पड़ेगा। मोदी ने 10 वर्षों में एक भी पत्रकार वार्ता नहीं किया। सिर्फ अपने मन की बात की और मनमानी की।

ठाकुर ने कहा कि तमाम परंपराओं को दरकिनार करते हुए चुनाव आयोग आनन-फानन में आचार-संहिता लागू करने की घोषणा इसलिए कर रही है कि भाजपा के इलेक्टोरल बॉन्ड पर भ्रष्टाचार को लेकर जन आंदोलन न हो और ना ही मीडिया में इस पर कोई बहस हो। उन्होंने कहा कि 1,300 से अधिक कंपनियों और व्यक्तियों ने इलेक्टोरल बॉन्ड के रूप में दान दिया है, जिसमें 2019 के बाद से भाजपा को 6,000 करोड़ से अधिक का दान शामिल है।

इस अवसर पर प्रदेश महासचिव सह मीडिया प्रभारी राकेश सिन्हा, संगठन महासचिव अमुल्य नीरज खलखो, मीडिया चेयरमैन सतीश पॉल मुंजनी, प्रवक्ता जगदीश साहु उपस्थित थे।

Jharkhand Congress Press Conference