Breaking :
||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर||युवक ने थाने की हाजत में लगायी फां*सी, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप
Sunday, February 25, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

भूल सुधार: 27 जनवरी को बूढ़ा पहाड़ जायेंगे सीएम हेमंत सोरेन, ग्रामीणों की सुनेंगे समस्यायें

हेमंत सोरेन बूढ़ा पहाड़

पहले मुख्यमंत्री जो जायेंगे बूढ़ा पहाड़

रांची : मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन 27 जनवरी को बूढ़ा पहाड़ का दौरा करेंगे। इस दौरान मुख्यमंत्री स्थानीय ग्रामीणों की समस्याएं सुनेंगे और उनके समाधान को लेकर कई घोषणाएं भी करेंगे। हेमंत सोरेन राज्य के पहले मुख्यमंत्री हैं, जो बूढ़ापहाड़ क्षेत्र में पहुंचेंगे।

गणतंत्र दिवस पर पहली बार होगा ध्वजारोहण

मुख्यमंत्री के साथ गढ़वा और लातेहार की पूरी प्रशासनिक टीम भी मौजूद रहेगी। इस दौरान मुख्य सचिव, गृह सचिव, डीजीपी और सीआरपीएफ के अधिकारी भी मौजूद रहेंगे। वहीं झारखंड-छत्तीसगढ़ सीमा पर पहली बार बूढ़ा पहाड़ क्षेत्र में गणतंत्र दिवस को धूमधाम से मनाने की तैयारी चल रही है और इससे जुड़े कई बड़े आयोजन किये जा रहे है। क्षेत्र के एक दर्जन गांवों में गणतंत्र दिवस के दौरान पहली बार ध्वजारोहण किया जाना है। पहले क्षेत्र में माओवादियों के डर से झंडारोहण नहीं किया जाता था।

बूढ़ा पहाड़ पर माओवादियों का था कब्जा

गौरतलब है कि सितंबर माह से बूढ़ापहाड़ में माओवादियों के खिलाफ ऑपरेशन ऑक्टोपस चलाया गया था। इस अभियान में सुरक्षाबलों ने पहली बार बूढ़ापहाड़ पर कब्जा किया है। अभियान के दौरान नक्सली बूढ़ापहाड़ को छोड़कर भाग गाये हैं। बूढ़ापहाड़ में सुरक्षाबलों ने करीब आधा दर्जन कैंप लगा रखे हैं। इन कैंपों में कोबरा, सीआरपीएफ, जगुआर के जवानों को तैनात किया गया है। अब तक सुरक्षाबलों ने इलाके से 2500 से ज्यादा बारूदी सुरंग बरामद की है और आधा दर्जन से ज्यादा बंकरों को ध्वस्त किया है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

हेमंत सोरेन बूढ़ा पहाड़