Breaking :
||बिना हेलमेट गाड़ी चलाते पकड़े जाने पर नहीं चलेगी किसी की पैरवी, नियम सभी के लिए समान : एसपी||बिहार के तीन साइबर अपराधी लातेहार से गिरफ्तार, चला रहे थे ठगी की दूकान||कांग्रेस सांसद धीरज साहू के ठिकानों पर नोटों की गिनती अभी भी जारी, आंकड़ा 500 करोड़ के पार, देखिये कैसे हो रही है गिनती||सस्पेंस खत्म मोहन यादव होंगे मध्य प्रदेश के अगले मुख्यमंत्री||ED ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को फिर पूछताछ के लिए बुलाया, छठी बार समन जारी||गरीबों को लूटकर पैसा जमा करने वालों से पाई-पाई वसूलने की मोदी की गारंटी : बाबूलाल मरांडी||पलामू में पुलिसकर्मियों को रौंदने का प्रयास, आरोपी चालक गिरफ्तार||‘धरती के धन कुबेर’ कांग्रेस सांसद धीरज प्रसाद साहू के ठिकानों से 3 सौ करोड़ रुपये बरामद, तीसरे दिन भी आईटी की छापेमारी, देखें वीडियो||तेतरियाखाड़ कोलियरी में PNMPL कंपनी के खिलाफ भूख हड़ताल पर बैठे मजदूर नेता की तबियत बिगड़ी||लातेहार: एंबुलेंस में शराब छिपाकर ले जा रहे तीन तस्करों को मनिका पुलिस ने पकड़ा, भारी मात्रा में अवैध शराब जब्त
Monday, December 11, 2023
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: मुखिया के देवर ने दो बच्चों की मां से किया दुष्कर्म, पंचायत में मामले को रफा-दफा करने का बनाया दबाव

पलामू : दो बच्चों की मां ने मेदिनीनगर शहर थाना क्षेत्र के कौड़िया पंचायत की मुखिया अंजना सिंह के देवर सत्येंद्र सिंह के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया है। सबसे बड़ी बात यह है कि तीन दिन तक पंचायत इस मामले को दबाती रही। साथ ही पैसे का लालच देकर मामले को रफा-दफा करने का दबाव बनाया।

इतना ही नहीं पीड़िता के परिवार को घर से निकलने नहीं दिया जा रहा था। इसी बीच मौका पाकर महिला व उसका पति शहर थाने पहुंचे और मामला दर्ज कराया।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

सदर थाना प्रभारी गौतम कुमार ने बताया कि आवेदन प्राप्त हो गया है। कार्रवाई की जा रही है। आरोपी को जल्द ही न्यायिक हिरासत में भेज दिया जायेगा।

बताया जाता है कि 16 मई की रात मुखिया अंजना के देवर सत्येंद्र सिंह ने महिला के घर का दरवाजा रात करीब साढ़े दस बजे यह कहकर खुलवाया कि उसका पति नशे में है और सड़क पर गिर गया है। इसके बाद उसने उसके साथ दुष्कर्म किया। करीब एक घंटे बाद जब महिला का पति तिलक समारोह से घर पहुंचा तो महिला आपत्तिजनक हालत में मिली।

अगले दिन शाम को गांव के सामुदायिक भवन में पंचायत हुई और लोगों ने उसे मायके जाने की सलाह दी। साथ ही कुछ लोगों ने रुपये लेकर मामले को रफा-दफा करने का दबाव बनाया। विवाद के चलते पंचायत में कोई फैसला नहीं हो सका। अगले दिन 18 मई की सुबह पुन: पीड़िता के घर पंचायत हुई। आरोपियों ने पीड़ित महिला को किसी भी सूरत में थाने नहीं जाने की धमकी दी। आखिरकार हिम्मत जुटायी और तीसरे दिन थाने पहुंचकर मामला दर्ज कराया।