Breaking :
||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या||पलामू समेत झारखंड के इन चार लोकसभा सीटों के लिए 18 से शुरू होगा नामांकन, प्रत्याशी गर्मी की तपिश में बहा रहे पसीना||रामनवमी के दौरान माहौल बिगाड़ने वाले आपत्तिजनक पोस्ट पर झारखंड पुलिस की पैनी नजर, गाइडलाइन जारी||झारखंड: प्रचार करने पहुंचीं भाजपा प्रत्याशी गीता कोड़ा का विरोध, भाजपा और झामुमो कार्यकर्ताओं के बीच झड़प||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत
Monday, April 15, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरचतराझारखंड

मुख्यमंत्री ने राजकीय इटखोरी महोत्सव का किया उद्घाटन, कहा- सभी वर्ग-समुदाय के धार्मिक स्थलों को संरक्षित करना प्राथमिकता

चतरा राजकीय इटखोरी महोत्सव

चतरा : मुख्यमंत्री चम्पाई सोरेन ने कहा कि समाज के अंदर सबसे ज्यादा देवी मां की ही पूजा-अर्चना की जाती है। संसार में मां का अलग और महत्वपूर्ण स्थान है। चाहे वो भगवान रूपी देवी मां हो या मनुष्य को जन्म देने वाली मां हो, मां सदैव पूजनीय एवं वंदनीय होती हैं। इसी प्रकार मां भद्रकाली के पूजन से हम सभी लोगों की मनोकामनायें पूर्ण होती हैं।

चतरा राजकीय इटखोरी महोत्सव
चतरा राजकीय इटखोरी महोत्सव

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैंने आज चतरा जिला के इटखोरी स्थित मां भद्रकाली मंदिर में विधिवत पूजा-अर्चना कर समस्त झारखंड वासियों की सुख समृद्धि एवं उन्नति की कामना की है। तीन दिवसीय राजकीय इटखोरी महोत्सव के अवसर पर मैं पूरे राज्यवासियों को अपनी ओर से हार्दिक बधाई देता हूं। वे सोमवार को चतरा जिले के इटखोरी मां भद्रकाली मंदिर परिसर में आयोजित तीन दिवसीय राजकीय इटखोरी महोत्सव को संबोधित कर रहे थे।

चतरा राजकीय इटखोरी महोत्सव
चतरा राजकीय इटखोरी महोत्सव

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार ने पहले से ही यह तय कर रखा है कि राज्य के भीतर सभी धर्म-समुदायों के धार्मिक स्थलों को संरक्षित किया जायेगा। हमारी सरकार शहरों के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी सभी वर्ग समुदायों के धार्मिक स्थलों का सुंदरीकरण कार्य करते हुए संरक्षित करने का काम कर रही है। आज राजकीय इटखोरी महोत्सव में विभिन्न वर्ग-समुदायों के धर्मगुरु भी यहां उपस्थित हैं। किसी भी वर्ग-समुदाय के लोगों के धार्मिक आस्था पर कोई ठेस न पहुंचे इसके लिए हमारी सरकार कृतसंकल्पित है। आने वाले समय में इटखोरी एक जाना-पहचाना धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में स्थापित हो यह राज्य सरकार की प्राथमिकता है।

चतरा राजकीय इटखोरी महोत्सव
चतरा राजकीय इटखोरी महोत्सव

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2027 तक हमारी सरकार राज्य के 20 लाख आवासविहीन परिवारों को पक्का मकान देगी। मिट्टी के कच्चे घरों या झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वालों को प्राथमिकता के तौर पर हम पक्का मकान देने का कार्य प्रारंभ कर चुके हैं। इस आधुनिक युग में देश और दुनिया जब इतनी रफ्तार से विकास कर रहा है तब हम झारखंड को किसी भी हाल में पीछे नही रहने देंगे।

सोरेन ने कहा कि झारखंड हमेशा से खनिज संपदाओं वाला राज्य माना जाता है लेकिन विडंबना है कि हमारी खनिज संपदाओं का सबसे ज्यादा लाभ दूसरे प्रदेश के लोगों ने लिया है। हमारी सरकार हर हाल में इस स्थिति को बदलेगी। यहां के मूलवासी और आदिवासी समाज को हम सामाजिक, आर्थिक तथा शैक्षणिक रूप से मजबूत बनाने पर काम करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन की सोच को आगे बढ़ते हुए राज्य को हर क्षेत्र में प्रगति की ओर ले जाना है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड के आदिवासी, दलित, मजदूर, किसान, अल्पसंख्यक सहित सभी वर्ग-समुदाय के बच्चे-बच्चियों को गुरुजी क्रेडिट कार्ड योजना का लाभ हमारी सरकार दे रही है। अब हमारे बच्चों की पढ़ाई पैसों के कारण नहीं रुकेगी। हेमन्त सोरेन ने इन सभी वर्गों के बच्चों-बच्चों के लिए शिक्षा का जो ‘दीया’ जलाने का कार्य कर दिखाया है, उसे कभी बुझने नहीं दिया जायेगा। हमारी सरकार शिक्षा व्यवस्था को निरंतर सुदृढ़ करने के लिए प्रयासरत है। शिक्षित समाज से ही विकसित राज्य का निर्माण किया जा सकेगा।

इस अवसर पर मंत्री सत्यानन्द भोक्ता, मंत्री बादल, विधायक किशुन कुमार दास, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव विनय कुमार चौबे, बौद्ध धर्म गुरु स्वामी रविंद्र कीर्ति जी, धर्म गुरु नांगजेय दोरजे, प्रधान पुजारी नागेश्वर, दिगम्बर जैन धार्मिक न्यास बोर्ड के अध्यक्ष ताराचंद जैन सहित अन्य गणमान्य लोग एवं बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित थे।

चतरा राजकीय इटखोरी महोत्सव