Breaking :
||झारखंड कैबिनेट का फैसला, सरकार करायेगी जातिगत गणना, विधायकों का वेतन भत्ता बढ़ा, रिटायर्ड कर्मचारियों को भी मिलेगी प्रमोशन||झारखंड को नशामुक्त राज्य बनाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध, हर किसी की सहभागिता जरूरी : मुख्यमंत्री||वन भूमि से कब्जा हटाने गयी टीम पर ग्रामीणों का हमला, पत्थरबाजी में वन क्षेत्र पदाधिकारी समेत एक दर्जन घायल||झारखंड में इस तारीख को मानसून की एंट्री, बारिश और वज्रपात का अलर्ट||लातेहार: दो बाइकों की टक्कर में मामा-भांजा समेत चार घायल समेत बालूमाथ की दो खबरें||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, जांच में जुटी पुलिस||झारखंड कैबिनेट की बैठक 19 जून को, लिये जायेंगे कई अहम फैसले||रजरप्पा को विश्वस्तरीय धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में किया जाये विकसित, कार्ययोजना करें तैयार : मुख्यमंत्री||झारखंड में IPS अधिकारियों का ट्रांसफर-पोस्टिंग||पलामू में प्रतिबंधित मांस का टुकड़ा फेंके जाने से तनाव, इलाका पुलिस छावनी में तब्दील
Wednesday, June 19, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

उदयनिधि स्टालिन के बयान पर अपनी स्थिति स्पष्ट करें मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन : बाबूलाल मरांडी

रांची : प्रदेश भाजपा अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने आज उदयनिधि स्टालिन के बयान पर इंडी गठबंधन के घटक झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से जवाब मांगा है।

श्री मरांडी ने कहा कि राज्य के सनातन धर्म से जुड़े बयान पर जनता हेमंत सोरेन का जवाब जानना चाहती है। इस संबंध में हेमंत सोरेन को अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि हाल ही में मुंबई में इंडी एलायंस की बैठक हुई थी, जिसमें राज्य के सत्तारूढ़ गठबंधन झामुमो, कांग्रेस और राजद के शीर्ष नेता शामिल हुए थे। इसके बाद तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के बेटे और तमिलनाडु सरकार में मंत्री उदयनिधि स्टालिन ने सनातन धर्म की तुलना डेंगू और मलेरिया से की और सनातन को खत्म करने की बात कही।

श्री मरांडी ने कहा कि स्टालिन के बयान से करोड़ों सनातन धर्मावलंबियों को ठेस पहुंची है। उन्होंने कहा कि सनातन संस्कृति लाखों वर्षों से चली आ रही है। इसे खत्म करने की बात करने वाले खुद मिटते चले गये। लेकिन सनातन परंपरा अक्षुण्ण बनी रही।

उन्होंने कहा कि भारतीय गठबंधन में शामिल झामुमो नेता और राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को उदयनिधि स्टालिन के बयान पर स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए। कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को यह स्पष्ट करना चाहिए कि वह स्टालिन के बयान का समर्थन करते हैं या विरोध।

Jharkhand Latest News Today