Breaking :
||बंद औद्योगिक इकाइयों को पुनर्जीवित करेगी राज्य सरकार : मुख्यमंत्री||आर्थिक तंगी के कारण कोई भी छात्र उच्च एवं तकनीकी शिक्षा से न रहे वंचित: मुख्यमंत्री||झारखंड में मानसून की आहट, भारी बारिश का अलर्ट जारी||बड़गाईं जमीन घोटाले में ED की बड़ी कार्रवाई, जमीन कारोबारी के ठिकाने से एक करोड़ कैश और गोलियां बरामद||पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सेक्शन अधिकारी समेत दो रिश्वत लेते गिरफ्तार||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री
Saturday, June 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडल

पलामू पहुंची सीबीआई की टीम, बकोरिया एनकाउंटर की करेगी जांच

bakoria palamu news

पलामू : सतबरवा थाना क्षेत्र के बकोरिया में कथित मुठभेड़ की जांच के लिए सीबीआई की टीम एक बार फिर पलामू पहुंची है। बकोरिया एनकाउंटर मामले में सीबीआई ने 70 फीसदी जांच पूरी कर ली है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारी पलामू पहुंचकर कई लोगों से पूछताछ करेंगे। सीबीआई की स्पेशल टीम चार्जशीट के लिए दस्तावेज तैयार कर रही है।

जानकारी के मुताबिक इस मामले में सीबीआई अब तक 350 से ज्यादा लोगों के बयान ले चुकी है।

आपको बता दें कि 8 जून 2015 की आधी रात को बकोरिया की भलवाही घाटी में कथित मुठभेड़ में 12 नक्सली मारे गए थे।

इसमें नक्सलियों का टॉप कमांडर आरके उर्फ ​​अनुराग, उसका बेटा और भतीजा भी शामिल था। कथित मुठभेड़ में चार नाबालिग, एक पारा शिक्षक और उसका भाई भी मारा गया था।

कथित पुलिस नक्सली मुठभेड़ में मारे गए 12 लोगों को पुलिस ने माओवादी कहा और अपनी पीठ थपथपाई। यह शर्मनाक है कि पुलिस ने इस मुठभेड़ के लिए इनाम भी बांटे। लेकिन कुछ ही दिनों में यह मुठभेड़ सवालों के घेरे में आ गई। तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दास और डीजीपी डीके पांडे पर फर्जी एनकाउंटर करने का आरोप लगा था। काफी हंगामे के बाद मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गई।

लेकिन साढ़े छह वर्ष बीत जाने के बाद भी मुठभेड़ में मारे गए लोगों के परिवारों को न्याय नहीं मिल पाया है। पुलिस जांच में पता चला कि इन 12 लोगों में डॉक्टर आरके उर्फ ​​अनुराग के अलावा किसी का भी नक्सली रिकॉर्ड नहीं था।

bakoria palamu news

https://thenewssense.in/category/latehar

https://www.facebook.com/newssenselatehar


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *