Breaking :
||बंद औद्योगिक इकाइयों को पुनर्जीवित करेगी राज्य सरकार : मुख्यमंत्री||आर्थिक तंगी के कारण कोई भी छात्र उच्च एवं तकनीकी शिक्षा से न रहे वंचित: मुख्यमंत्री||झारखंड में मानसून की आहट, भारी बारिश का अलर्ट जारी||बड़गाईं जमीन घोटाले में ED की बड़ी कार्रवाई, जमीन कारोबारी के ठिकाने से एक करोड़ कैश और गोलियां बरामद||पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सेक्शन अधिकारी समेत दो रिश्वत लेते गिरफ्तार||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री
Saturday, June 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: विचाराधीन बंदी की संदिग्ध मौत मामले में पांच जेल कर्मियों पर केस दर्ज

एसपी ने कहा- दोषी पाये जाने वालों पर होगी सख्त कानूनी कार्रवाई

लातेहार : जिला मुख्यालय के जेल में बंद विचाराधीन बंदी सेंधु मुंडा की मौत के मामले में सदर थाने में पांच जेल कर्मियों के खिलाफ केस दर्ज की गयी है।

Kidzee Latehar
Kidzee Latehar

पुलिस ने जेल अधीक्षक द्वारा दिये गये अर्जी के आधार पर कक्षपाल शंकर मुंडा, चंद्रशेखर सिंह, दीप नारायण विश्वकर्मा, प्रदीप प्रजापति और मनोहर बारला के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

एसपी अंजनी अंजन ने बताया कि पुलिस पूरे मामले की जांच में जुट गयी है। मामले में दोषी पाये जाने वालों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जायेगी।

गौरतलब है कि सेंधु मुंडा बुजुर्ग दंपति हत्याकांड के आरोप में लातेहार जेल में बंद था। शनिवार की सुबह उसकी तबियत अचानक बिगड़ी तो उसे सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी। डॉक्टरों ने कहा कि बंदी की मौत स्ट्रोक के कारण हुई है। लेकिन जब मृतक के परिजन अस्पताल पहुंचे और शव देखा तो उसके शरीर पर कई गहरे जख्म के निशान देखे गये। इसके बाद परिजनों ने आरोप लगाया था कि सेंधु मुंडा की लाठियों से पीट-पीट कर हत्या कर दी गयी। इस आरोप के बाद तीन डॉक्टरों का मेडिकल बोर्ड गठित कर कार्यपालक दंडाधिकारी की मौजूदगी में शव का पोस्टमार्टम कराया गया। इसके बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया।

इधर रविवार को परिजन इस बात पर अड़े थे कि जब तक दोषियों के खिलाफ प्राथमिकी की प्रति उन्हें उपलब्ध नहीं करायी जाती तब तक वे शव का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। मृतक के परिजनों व ग्रामीणों ने भी पूरे मामले में प्रशासनिक उदासीनता का आरोप लगाया। हालांकि पुलिस अधिकारियों की समझाइश के बाद ग्रामीणों का गुस्सा शांत हुआ।

लातेहार कैदी संदिग्ध मौत