Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में सड़क हादसे में एक बाइक सवार की मौत, दो अन्य घायल||अपहृत डॉक्टर सकुशल बरामद, डालटनगंज में किराये का मकान लेकर छिपा रखे थे अपहरणकर्ता, तीन गिरफ्तार||रांची में पचास हजार का इनामी माओवादी हथियार के साथ गिरफ्तार||गुमला में तेज रफ़्तार का कहर, सड़क हादसे में दो छात्रों की दर्दनाक मौत||रांची: TSPC के इनामी उग्रवादी ने पुलिस के सामने किया सरेंडर||विजय संकल्प महारैली में बोले पीएम मोदी, मोदी की गारंटी पर देश कर रहा भरोसा, अबकी बार 400 पार||पलामू: बेटी की शादी के लिए बैंक से निकाले पैसे, रुपयों से भरा बैग छीनकर लुटेरे हुए फरार||सिंदरी खाद कारखाना चालू कराने का लिया था संकल्प, मोदी की गारंटी हुई पूरी : नरेन्द्र मोदी||कैबिनेट की बैठक में 40 प्रस्तावों को मिली मंजूरी, राज्य कर्मियों की पेंशन योजना में संशोधन, अब पांच हजार रुपये मिलेगा पोशाक भत्ता||पलामू: नाबालिग से दुष्कर्म के दोषी को 20 साल सश्रम कारावास की सजा
Saturday, March 2, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: BSF जवान ने पूर्व मुखिया दंपत्ति समेत चार पर किया तलवार से हमला, मुखिया की मौत

पलामू : पड़वा थाना क्षेत्र के कजरी पंचायत अंतर्गत गोल्हना गांव में बीएसएफ के एक जवान ने पूर्व मुखिया दंपत्ति और उनके परिवार पर अचानक तलवार से हमला कर दिया। इस घटना में कजरी के पूर्व मुखिया सत्यदेव तिवारी की मौत हो गयी, जबकि उनकी पत्नी सोनमती देवी गंभीर हैं। हमले में पूर्व मुखिया की भाभी रागिनी देवी पति रामाकांत तिवारी और सुनील तिवारी भी घायल हो गये। पूर्व मुखिया पत्नी सोनमती व अन्य घायलों को बेहतर इलाज के लिए एमआरएमसीएच में भर्ती कराया गया है। सोनमती देवी की हालत गंभीर बतायी जा रही है।

घटना के बाद से आरोपी बीएसएफ जवान रूपेश तिवारी उर्फ उनील फरार है। बताया जाता है कि मंगलवार की दोपहर करीब दो बजे बीएसएफ जवान रूपेश अचानक पूर्व मुखिया के घर में घुस गया और उन पर तलवार से हमला कर दिया। जो भी उसके सामने आता वह उस पर हमला कर देता था। पूर्व मुखिया सत्यदेव तिवारी पर कई बार हमला करने के बाद वह गंभीर हो गये। इसी क्रम में उनकी पत्नी सोनमती पर भी तलवार से हमला किया गया। सिर के अलावा शरीर के अन्य हिस्से बुरी तरह जख्मी हो गये।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

बीएसएफ जवान ने पूर्व मुखिया की बहू रागिनी पर भी हमला कर उसे भी घायल कर दिया। इसी क्रम में सुनील तिवारी पर भी हमला हुआ। जिस तरह से बीएसएफ जवान हमला कर रहा था, उससे लग रहा था कि उसके सिर पर खून सवार है। पूर्व मुखिया सत्यदेव के जो भी रिश्तेदार उसे मिले, उसने उन्हें निशाना बनाया।

घटना के बाद किसी तरह स्थानीय लोगों ने पूर्व मुखिया, उनकी पत्नी व अन्य को इलाज के लिए आनन-फानन में एमआरएमसीएच लाया। हालांकि रास्ते में ही पूर्व मुखिया सत्यदेव की मौत हो गयी थी। एमआरएमसीएच में उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। कई घंटों तक अस्पताल में चीख-पुकार मची रही। परिजनों के रोने से अस्पताल परिसर गमगीन हो गया है।

सूचना मिलने पर पड़वा पुलिस मामले की जांच में जुट गयी है। घटना के पीछे जमीन विवाद सामने आ रहा है। इधर जानकारी मिली है कि घटना के दौरान आरोपी बीएसएफ जवान ने पूर्व मुखिया के घर को भी जलाने की कोशिश की।