Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

बीजेपी के घनश्याम लोधी ने आजम खान के गढ़ रामपुर में लहराया भगवा

उत्तर प्रदेश की रामपुर लोकसभा सीट पर बीजेपी ने जीत दर्ज की है. बीजेपी के घनश्याम लोधी 42,192 वोटों से जीते हैं. वहीं, आजमगढ़ के नतीजे अभी चुनाव आयोग की ओर से जारी नहीं किए गए हैं. लेकिन आजमगढ़ से बीजेपी उम्मीदवार निरहुआ ने जीत का ऐलान कर दिया है। रामपुर में जीत के ऐलान के साथ ही बीजेपी ने लोगों के फैसले का स्वागत किया है.

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

दिलचस्प बात यह है कि इन दोनों सीटों पर समाजवादी पार्टी का दबदबा माना जा रहा है. सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव भी इन सीटों पर अपनी जीत को लेकर पहले से ही आशान्वित थे। लेकिन यूपी की लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव के नतीजों ने सारे आंकड़े बदल कर रख दिए.

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

26 जून की सुबह से ही रामपुर और आजमगढ़ के चुनावी दंगों पर सभी की निगाहें टिकी थीं. खासकर बीजेपी और सपा के लिए इन सीटों पर जीत-हार का फैसला कई राजनीतिक समीकरणों के लिए अहम था. सुबह से ही दोनों सीटों पर सपा की बढ़त के आंकड़े नजर आ रहे थे. लेकिन कई दौर की मतगणना (मतगणना) से उलटफेर हो गया। अंत में बीजेपी को जीत मिली।

पलामू की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मतगणना खत्म होने तक दोनों सीटों पर बीजेपी की पकड़ मजबूत होती गई. वहीं, एसपी खेमे से असंतोष के स्वर सुनाई देने लगे। इन सीटों की जीत-हार के नतीजे जानने के लिए लोग इतने उत्सुक थे कि चुनाव आयोग की आधिकारिक वेबसाइट सुबह कुछ देर के लिए हैंग कर गई.