Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Thursday, April 18, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

भाजपा ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर स्थानीय नीति एवं नियोजन नीति की समीक्षा करने का किया आग्रह

रांची : भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और सांसद दीपक प्रकाश ने हेमंत सोरेन सरकार से नियोजन और स्थानीय नीति की समीक्षा करने का आग्रह किया है। उन्होंने इस संबंध में मंगलवार को मुख्यमंत्री को पत्र भी लिखा है। दीपक ने कहा है कि इन नीतियों पर फैसला लेने का मामला पूरी तरह से राज्य सरकार के अधिकार क्षेत्र में आता है। सरकार नीतियां बनाने और लागू करने में सक्षम है। उसे सिर्फ ड्यू डिलिजेंस रिव्यू की प्रक्रिया से गुजरना होगा।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मंगलवार को राज्यपाल से मिलने के लिए सर्वदलीय दल में भाजपा के दो प्रतिनिधियों के नाम पर दीपक प्रकाश ने कहा कि सरकार को सस्ती लोकप्रियता के लिए काम नहीं करना चाहिए। युवाओं के भविष्य के लिए दूरदर्शी सोच दिखाएं। योजना नीति पर हाईकोर्ट ने सरकार को मौका दिया है। ऐसे में सरकार को एक बार फिर स्थानीय और नियोजन नीति की कानूनी समीक्षा करनी चाहिए। भाजपा प्रदेश हित में जनभावनाओं के अनुरूप सरकार को सहयोग करने को तैयार है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सोमवार को प्रदेश के सभी दलों के वरीय नेताओं और निर्दलीय विधायकों को पत्र लिखा था। पत्र के माध्यम से उन्होंने झारखंड पदों एवं सेवाओं की रिक्तियों में आरक्षण (संशोधन) विधेयक, 2022 एवं झारखंड स्थानीय व्यक्तियों की परिभाषा और परिणामी सामाजिक, सांस्कृतिक और अन्य लाभों को ऐसे स्थानीय व्यक्तियों तक विस्तारित करने के लिए विधेयक, 2022 को अग्रेतर कार्रवाई के लिए भारत सरकार को भेजने का अनुरोध करने के लिए राज्यपाल रमेश बैस से मिलने के लिए प्रतिनिधिमंडल में शामिल होने का आग्रह किया, ताकि उपरोक्त विधेयक को शीघ्र कानून का रूप मिल सके।