Breaking :
||लातेहार: दो बाइकों की टक्कर में मामा-भांजा समेत चार घायल समेत बालूमाथ की दो खबरें||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, जांच में जुटी पुलिस||झारखंड कैबिनेट की बैठक 19 जून को, लिये जायेंगे कई अहम फैसले||रजरप्पा को विश्वस्तरीय धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में किया जाये विकसित, कार्ययोजना करें तैयार : मुख्यमंत्री||झारखंड में IPS अधिकारियों का ट्रांसफर-पोस्टिंग||पलामू में प्रतिबंधित मांस का टुकड़ा फेंके जाने से तनाव, इलाका पुलिस छावनी में तब्दील||JBKSS प्रमुख जयराम महतो ने की विधानसभा चुनाव में 55 सीटों पर लड़ने की घोषणा||मुठभेड़ में पांच नक्सलियों को मार गिराने वाली टीम को DGP ने किया सम्मानित, कहा- मुख्य धारा में लौटें, अन्यथा मारे जायेंगे||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम
Wednesday, June 19, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंड

वारंटी को पुलिस हिरासत से जबरन छुड़ाने के मामले में BJP विधायक ढुल्लू महतो ने कोर्ट में किया सरेंडर

धनबाद : वारंटी राजेश गुप्ता को पुलिस हिरासत से जबरन छुड़ाने के मामले में नामजद बाघमारा के भाजपा विधायक ढुल्लू महतो ने सोमवार को धनबाद कोर्ट में सरेंडर कर दिया। झारखंड हाई कोर्ट ने ढुल्लू महतो की पुनरीक्षण याचिका पर सुनवाई करते हुए उन्हें एक महीने के भीतर सरेंडर करने का आदेश दिया था, जिसके बाद उन्होंने कोर्ट में सरेंडर कर दिया। इसके बाद धनबाद के अनुमंडल न्यायिक दंडाधिकारी अभिषेक श्रीवास्तव की अदालत ने विधायक को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

गौरतलब है कि धनबाद की अनुमंडल न्यायिक दंडाधिकारी शिखा अग्रवाल की अदालत ने नौ अक्टूबर 2019 को विधायक ढुल्लू महतो समेत कांड में नामजद पांच आरोपियों को राजेश गुप्ता को पुलिस हिरासत से छुड़ा ले जाने के मामले में सजा सुनाई थी। सरकारी काम में बाधा डालने पर डेढ़ साल साधारण कारावास और नौ हजार रुपये जुर्माना अदा करने का आदेश दिया। दूसरी ओर, अदालत ने मामले में नामजद आरोपी बसंत शर्मा को बाईज्जत बरी कर दिया था। आरोपी ने 4 नवंबर 19 को सत्र न्यायालय में कुल चार अपील दायर कर सजा के आदेश को चुनौती दी थी, जिसे विधायक की अपील सहित सत्र न्यायालय ने 28 अगस्त 2022 को खारिज कर दिया।

इसके बाद विधायक ढुल्लू महतो व अन्य ने झारखंड हाईकोर्ट में पुनरीक्षण याचिका दायर कर चुनौती दी, लेकिन विधायक ने पुनरीक्षण से पहले निचली अदालत में समर्पण नहीं किया। इसलिए हाईकोर्ट ने उन्हें पहले सरेंडर करने का आदेश दिया था।

एमिड कोल इंटरप्राइजेज के मुंशी गौरी शंकर सिंह की शिकायत पर पुलिस ने ढुल्लू के समर्थक राजेश गुप्ता व तीन-चार अन्य के खिलाफ रंगदारी मांगने व सरकारी काम में बाधा डालने का मामला दर्ज किया था।